इंदौर में कोरोना की तीसरी लहर के मुकाबले की तैयारी में जुटा प्रशासन, तीसरी लहर आने पर इसका बच्चों व महिलाओं पर होने वाले असर पर हुआ मंथन

संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा ने बुलायी शिशु रोग व स्त्री रोग विशेषज्ञों की बैठक

इंदौर। संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने आज कोरोना की आशंकित अगली लहर का मुकाबला करने के लिए एक महत्वपूर्ण बैठक बुलायी। कोरोना की अगर अगली लहर कोई आती है, तो उसमें बच्चों पर क्या असर होगा और इसका मुकाबला कैसे किया जाएगा। इस पर बुद्धिशीलता से विचार करने के लिए आयोजित इस बैठक में चिकित्सा संसाधन आंकलित करने और बढ़ाने के निर्देश संभागायुक्त द्वारा दिए गए हैं।

संभागायुक्त डॉ. शर्मा ने बताया कि आज सभी संबंधित विशेषज्ञों को इस बात के लिए बुलाया गया कि इस पर विचार किया जाए कि अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है, तो इसका बच्चों और महिलाओं पर क्या असर पड़ेगा। उनकी संख्या कहाँ तक जाएगी और उनके लिए क्या इंतज़ाम ज़रूरी होंगे। बैठक में राज्य आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य डॉ. निशांत खरे विशेष रूप से उपस्थित थे।

चाचा नेहरू हास्पिटल के अधीक्षक डॉक्टर हेमंत जैन ने बताया कि संभागायुक्त डॉ. शर्मा द्वारा सरकारी अस्पतालों में बच्चों के लिए बेड बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। अभी चाचा नेहरू हास्पिटल में सौ और महाराजा यशवंतराव हास्पिटल में 90 बेड उपलब्ध हैं। जिनकी संख्या दुगनी करने के निर्देश दिए गए हैं।

संभागायुक्त डॉ पवन शर्मा ने बैठक में कहा कि इंदौर के सभी निजी अस्पतालों में भी चिकित्सा की आधारभूत संरचना बढ़ाने की ज़रूरत है। इस संबंध में जल्दी ही इंदौर के सभी प्रमुख अस्पताल संचालकों की बैठक बुलायी जाएगी। आज आयोजित बैठक में डीन मेडिकल कॉलेज डॉ. संजय दीक्षित, डॉ. निर्भय मेहता, डॉ. नीलेश दलाल, डॉ. गुंजन केला, डॉ. जयश्री श्रीधर और डॉ. किशोर चाँदकी भी उपस्थित थे।

Spread the love

इंदौर