इंदौर में फ्लेट विक्रय में धोखाधडी के आरोपी अमित टोंग्या की जमानत खारिज

इंदौर। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अब्दुल्ला अहमद की कोर्ट ने इंदौर में फ्लेट विक्रय में धोखाधडी के आरोपी अमित टोंग्या की जमानत खारिज कर दी। जिला लोक अभियोजन अधिकारी मोहम्मद अकरम शेख द्वारा बताया गया कि आरोपी अमित पिता मोतीलाल टोग्या उम्र 50 वर्ष निवासी एफ – 103 सर्व मित्तल तोल नाका बाम्बे हास्पिटल के पास इंदौर की ओर से पेश जमानत आवेदन पर सुनवाई की गई ।

प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी अपर लोक अभियोजक रीना सिंह द्वारा की गई। उनके द्वारा आरोपी के विरुद्ध मौखिक तर्क में कहा गया कि इंदौर शहर में धोखाधडी एवं कूटरचना से संबंधित अपराध की बढती हई घटनाओं एवं आरोपी के कृत्य को देखते हुए तथा अभी अनुसंधान अपूर्ण है और आरोपी की आवश्यकता अनुसंधान में हो सकती है।

यदि आरोपी को जमानत का लाभ दिया गया तो वह साक्षियों को डराएगा धमकाएगा अतः आरोपी को जमानत नही दी जाना चाहिए । न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्को से सहमत होते हुए आरोपी की जमानत आवेदन को निरस्त करते हुए आरोपी को न्यायिक अभिरक्षा ( जेल ) भेज दिया गया।


यह है मामला
अभियोजन की कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि फरियादी आयुष जैन ने शिकायत की थी कि आरोपी अमित ने द एड्स टाउनशिप पिपलिया कुमार में स्थित फ्लेट क्र 403 ब्लॉक आई जो मेरे आधिपत्य की थी

उसे दिनांक 27 / 03 / 15 को विक्रेता कंपनी मेसर्स शिवालिका रियलिटीज प्रा . लि . से विक्रय अनुबंध लेख कर करीब 38 , 81 , 000 रूपये में अमित टोंग्या व रजत बोहरा से क्रय किया था

उसके बाद भी रजिस्ट्री नहीं कराई गई थी एवं आयूष जैन के दवारा क्रय किए गए फ्लेट को अमित टोंग्या द्वारा कूटरचित दस्तावेज तैयार कराकर मेरे फ्लेट का ताला तोडकर राजश्री पाटनी को दिनांक 01 / 07 / 17 को रजिस्ट्री कर दी । उक्त रजिस्ट्री आवेदक से धोखाधड़ी कर सदोष लाभ प्राप्त किए जाने हेतु किया गया।

Spread the love

इंदौर