छतरपुर एसडीएम सपकाले ने मिलीभगत से अपने ही दफ्तर पर करवाया हमला, पुलिस ने किया भंडाफोड़, 5 गिरफ्तार

छतरपुर। मप्र के छतरपुर में अनोखा मामला सामने आया है। मिलीभगत से यहां के एसडीएम अनिल सपकाले ने अपने ही दफ्तर पर हमला करवाया। पुलिस ने इस पूरे मामले का भंडाफोड़ किया है।

आरोप है कि एसडीएम सपकाले ने अपने मित्र की व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता के चलते एक यूनिवर्सिटी के संचालक को फंसाने के लिए इस हमले की साज़िश रची थी। पुलिस ने एक बीजेपी नेता सहित 5 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है, एक आरोपी फरार है।


एसपी तिलक सिंह द्वारा जांच के बाद मीडिया के समक्ष इसका खुलासा किया है। (देखें प्रेस नोट)
इस मामले की जांच एएसपी जयराज कुबेर की टीम ने की थी। पुलिस ने इस मामले में बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चे के प्रदेश मंत्री जावेद अख्तर और कृष्णा यूनिवर्सिटी संचालक पुष्पेंद्र गौतम, राजू उर्फ राजेन्द्र सिंह, अमित सहित 5 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है. एसडीएम अनिल सपकाले पुलिस अभिरक्षा में हैं। एक अन्य आरोपी फरार है।

यह है मामला

गत 5 फरवरी को एसडीएम सपकाले के दफ्तर पर हमला हुआ था। सुबह कुछ नकाबपोश बदमाशों ने एसडीएम कार्यालय में फायरिंग करते हुए उनके दफ्तर सहित गाड़ी में तोड़फोड़ कर दी थी। इसमे विवेचना के दौरान शक की सुई एसडीएम सपकाले पर गई। जब उनकी काल डिटेल्स व अन्य तथ्यों की छानबीन की गई तो खुलासा हो गया कि एसडीएम हमले के इस षडयंत्र में शामिल थे। पुलिस के मुताबिक एसडीएम सपकाले के दोस्त पुष्पेंद्र गौतम की अभय भदौरिया से व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता है। अभय को उलझाने के लिए यह हमला करवाया गया था।

Spread the love

15

इंदौर