इंदौर में लॉक डाउन, नाइट कर्फ्यू, बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर सख्ती आदि मुद्दों पर क्या बोले कलेक्टर मनीष सिंह, देखें वीडियो

इंदौर। क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में इंदौर में लॉक डाउन, नाइट कर्फ्यू, बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर सख्ती आदि मुद्दों पर ककलेक्टर मनीष सिंह ने क्या कहा- देखें वीडियो।

मास्क नहीं लगाने वालों पर होगा अर्थदण्ड, शादी समारोह, अंतिम यात्रा आदि आयोजनों में संख्या सीमित रखने का निर्णय, शासन को भेजा जायेगा प्रस्ताव

इंदौर में कोरोना मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुये स्थिति को नियंत्रित करने के एहतियाती उपाय और प्रतिबंधात्मक आदेशों के संबंध में विचार विमर्श के लिये आज यहां क्राईसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में कोरोना की स्थिति को देखते हुये निर्णय लिया गया कि मास्क लगाने का पालन सख्ती से कराया जाये। मास्क नहीं लगाने वालों के विरूद्ध अर्थदण्ड की कार्रवाई की जाये। साथ ही शादी समारोह, अंतिम यात्रा आदि में संख्या सीमित रखी जाये।

होटल, रेस्टोरेंट आदि में भी संख्या सीमित रखते हुये सख्ती से पालन कराया जाये। स्थिति नियंत्रण में नहीं आने पर रात्रि 10 बजे बाद होटल, रेस्टोरेंट संस्थान बंद कराने के संबंध में कार्रवाई की जाये। उक्त निर्णय राज्य शासन को भेजे जायेंगे। अनुमोदन के पश्चात ही इसे लागू किया जायेगा। बैठक में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा, आईजी हरिनारायण चारी मिश्र, कलेक्टर मनीष सिंह, डीआईजी मनीष कपूरिया, विधायक मालिनी गौड़, महेन्द्र हार्डिया तथा आकाश विजयवर्गीय, पूर्व विधायक मनोज पटेल, सुदर्शन गुप्ता तथा राजेश सोनकर, इंदौर विकास प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष मधु वर्मा, मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया, कोरोना नियंत्रण के प्रभारी अधिकारी डॉ. अमित मालाकार सहित‍ अन्य अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में निर्णय लिया गया कि मास्क के संबंध में व्यापक रूप से जागरूकता अभियान चलाया जायेगा। मास्क नहीं लगाने पर संबंधित के विरूद्ध अर्थदण्ड की की कार्रवाई की जायेगी। बैठक में सर्व सहमति से तय किया गया कि शहर एवं जनता के हित में जिला प्रशासन द्वारा सख्ती से कदम उठायें जायें। प्रस्ताव शासन को भेज कर अनुमोदन के पश्चात लागू किया जायेगा। शहर में कोरोना मरीजों की बढ़ती हुई संख्या पर सभी सदस्यों ने चिंता जाहिर की और नागरिकों से अपील की है कि मास्क का अनिवार्य रूप से पालन करें। सोशल डिस्टेंसिंग रखें। भीड़ भरे क्षेत्रों में जाने से बचे। जरूरी होने पर ही आयोजनों में जाये। इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि महाराष्ट्र और भोपाल तथा आस-पास के क्षेत्रों में जिस तरह से कोरोना मरीजों की संख्या सामने आ रही है, वह हमारे लिये चिंताजनक है। इंदौर जिले में जनस्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से विशेष सावधानी और सतर्कता रखने की जरूरत है। प्रशासन आमजन की सुरक्षा के लिये सभी संभव प्रबंध सुनिश्चित करें।

बैठक में सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि हमे विशेष सावधानी और सतर्कता बरतने की जरूरत है। मास्क नहीं लगाने वालों के विरूद्ध सख्ती से कार्रवाई की जाये। नागरिकों से उन्होंने आग्रह किया कि वे मास्क जरूर लगाये। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। उन्होंने कोचिंग क्लास, होस्टल, होटल, रेस्टोरेंट आदि में संख्या सीमित रखते हुये उसका सख्ती से पालन कराने की बात कही।

बैठक में संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने कहा की कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ना चिंताजनक है। देखने में आ रहा है कि बड़ी संख्या में ऐसे लोग है, जो मास्क नहीं लगा रहे है, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे है, इससे संक्रमण का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। सावधानी बरते, मास्क जरूर लगाये। उन्होंने कहा कि होटल, रेस्टोरेंट आदि जहां पर लोग खाना खाते है, वहां संख्या और समय सीमित करने की जरूरत है। इस दिशा में कदम उठाये जा रहे है।

बैठक में कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि स्थिति को देखते हुये सतर्क होना पड़ेगा। मास्क नहीं लगाने पर कार्रवाई की जायेगी। आयोजनों के संबंध में प्रतिबंधात्मक आदेशों का पालन कराया जायेगा। बड़े आयोजन स्थगित रहेंगे। उन्होंने कहा कि मास्क ही कोरोना का बचाव है। मास्क लगाना ही चाहिये। कोरोना का टीकाकरण तेजी से चल रहा है। उन्होंने कहा कि रात्रि 10 बजे बाद से खाने-पीने की दुकानें बंद करने के संबंध में शासन का प्रस्ताव भेजा जायेगा। उन्होंने कहा कि होटल, रेस्टोरेंट, कोचिंग क्लासेस आदि में 50 प्रतिशत की उपस्थिति का पालन सुनिश्चित कराया जायेगा। बैठक में अन्य सदस्यों ने भी शहर हित में कोरोना की स्थित‍ि को नियंत्रित करने के संबंध में प्रभावी कदम उठाने की बात कही।

Spread the love

इंदौर