धार जिले में अवैध शराब बिक्री की शिकायते, लेकिन कोई बड़ी कार्रवाई नहीं मुख्यमंत्री के निर्देशों का भी असर नही?


धार। मुरैना व उज्जैन जिले में जहरीली शराब कांड होने के बावजूद धार जिले में अवैध शराब की बिक्री की शिकायते बढ़ रही है, लेकिन इसके बावजूद इसे बेचने वालों के खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई दिखाई नहीं दे रही है।


आबकारी विभाग की भूमिका पर सवाल उठने लगे हैं। कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के निर्देशों का भी असर नही हो रहा है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में मुरैना में जहरीली शराब पीने से 24 लोगों की मौत हो गई। इसके पहले उज्जैन में भी कई मौते इस वजह से हो चुकी है।

इसके बाद पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी हो चुका है और मुख्यमंत्री शिवराज के सख्त निर्देशो के बाद मप्र में कई जिलों में दबिशें देकर अवैध शराब बेचने वालों, कच्ची शराब बेचने वालों पर पुलिस और आबकारी विभाग कार्रवाई कर रहा है। मुख्यमंत्री द्वारा अधिकारियों को दिए गए फ्री हैंड के बाद ऐसे अपराधियों के अवैध मकान तक जमींदोज किए जा रहे हैं,

लेकिन धार जिले में अवैध शराब बेचने वालों, ढाबों वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई क्यो नही हो रही, इसे लेकर सवाल उठ रहे हैं जबकि उन इलाका अवैध शराब की बिक्री के लिए कुख्यात है। एक चर्चा यह भी है कि सैनिटाइजर के नाम पर स्प्रिट खरीदकर अवैध शराब बनाकर बेची जा रही है।आशंका जताई जा रही है कि यहां के अवैध शराब विक्रेताओं पर यह मेहरबानी धार के लोगो के लिए कही भारी ना पड़ जाए।

Spread the love

इंदौर