इंदौर के 34 वार्डो में कोरोना संक्रमण अधिक, मौहल्ले/क्षेत्र की पहचान कर कोरोना नियंत्रण हेतु बनाये जायेंगे माइक्रो कंटेनमेंट जोन, 7 दिन तक आवागमन रहेगा सीमित- देखें वीडियो, क्या बोले कलेक्टर सिंह

इंदौर। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी मनीष सिंह ने शुक्रवार को रेसीडेंसी कोठी में जिले के सभी एसडीएम, झोनल अधिकारी तथा अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक लेकर माइक्रो कंटेनमेंट जोन के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। इस दौरान नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल भी उपस्थित रहीं। बैठक में कलेक्टर सिंह ने बताया कि जिले में ऐसे 34 वार्ड चिन्हित किये गये है, जहां एक अप्रैल से कोरोना संक्रमण मामलों में इजाफा देखा गया है।

उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देश दिये कि उक्त वार्ड के ऐसे मौहल्ले/क्षेत्र जहां कोविड संक्रमण में सबसे ज्यादा वृद्धि देखी गई है, उनकी पहचान कर वहां माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाये जायें। उन्होंने कंटेनमेंट जोन के सर्विलेंस हेतु नियुक्त किये गये सभी इंसीडेंट कमांडर एवं दल के अन्य अधिकारियों को उक्त जोनों में समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।

माइक्रो कंटेनमेंट जोन में लगाये जायेंगे वैक्सीनेशन शिविर

कलेक्टर सिंह ने निर्देश दिये कि संक्रमण की रोकथाम हेतु माइक्रो कंटेनमेंट एरिया के अंतर्गत आवागमन सीमित रहेगा एवं चिकित्सकीय तथा आपातकालीन आवाजाही जारी रहेगी। संबंधित क्षेत्र के थाना प्रभारी द्वारा गठित दल सतत निगरानी करना सुनिश्चित करेंगे। नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अखिलेश उपाध्याय द्वारा उक्त सभी क्षेत्रों का सेनिटाइजेशन किया जायेगा।

समस्त वार्ड वार फ्रंट लाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ता एपिसेंटर का भ्रमण कर जानकारी लेते हुये निर्धारित प्रोफार्मा में रिपोर्ट आईडीएसपी नोडल अधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। समस्त कोविड संक्रमण के पॉजिटिव केस के परिजन एवं निकट संपर्क को क्वारेंटाइन कराया जाना सुनिश्चित किया जायेगा। माइक्रो कंटेनमेंट एरिया की समयावधि 7 दिवस रहेगी।

कलेक्टर ने कहा कि आंगनवाड़ी, एएनएम और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा माइक्रो कंटेनमेंट जोन में स्थित सभी घरों का सर्वे कर स्क्रीनिंग करायी जायेगी। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर माइक्रो कंटेनमेंट एरिया में वैक्सीनेशन शिविर भी लगाये जायेंगे। जिससे उक्त क्षेत्रों में निवास करने वाले 45 वर्ष के आयु वर्ग के व्यक्तियों का टीकाकरण कराया जायेगा। कलेक्टर सिंह ने कहा कि इंदौर के अस्पतालों में प्रदेश के सभी जिलों से मरीज कोविड का उपचार कराने आ रहे हैं।

ऐसे में हॉस्पिटल में बेड, दवाई तथा ऑक्सीजन की निरंतरता बनाये रखना एक बहुत बड़ी चुनौती बन गयी है। उन्होंने जिले के नागरिकों से अपील करते हुये कहा कि कोविड महामारी के इस समय में नागरिकों का प्रशासन को सहयोग कर खुद पर संयम रखना बहुत महत्वपूर्ण है।

लॉकडाउन का पूर्ण रूप से पालन करते हुये आमजन बिना किसी आवश्यक कारण के घरों से बाहर ना निकलें। मास्क का प्रयोग, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना सुनिश्चित करें एवं सभी पात्र व्यक्ति कोविड का टीका जरूर लगायेक़

Spread the love

इंदौर