एकता कपूर के खिलाफ इंदौर में दर्ज एफआईआर मामले में कोर्ट ने केंद्र सरकार से भी मांगा जवाब, याचिकाकर्ता ने पेश की वेब सीरीज के विवादित अंशो की सीडी


इंदौर। बालाजी फिल्म्स की एकता कपूर के खिलाफ इंदौर में दर्ज एफआईआर मामले में बुधवार को हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार के सूचना एवम प्रसारण मंत्रालय को भी पक्षकार बनाकर उनसे भी जवाब देने को कहा है। आज सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने विवादित वेब सीरीज की सीडी कोर्ट के समक्ष पेश की। अगली सुनवाई 6 सितंबर को होगी। तब तक एफआईआर पर कार्रवाई से अंतरिम रोक जारी रहेगी। शासन की ओर से अतिरिक्त महाधिवक्ता पुष्यमित्र भार्गव ने तर्क रखे।


उल्लेखनीय है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म ऑल्ट बालाजी पर प्रसारित वेब सीरीज “ट्रिपल एक्स” के सीजन-2 को लेकर एकता कपूर के विरुद्ध इंदौर के अन्नपूर्णा थाने पर एफआईआर दर्ज की गई थी।
इसे लेकर एकता कपूर की ओर से इस एफआईआर को रद्द करने के लिए धारा 482 में सीनियर एडवोकेट विनय सराफ, आनन्द सोनी की ओर से याचिका दायर की गई थी। गत सुनवाई पर कोर्ट ने एकता कपूर को अंतरिम राहत देते हुए अगली तारीख (26 अगस्त) तक कोई भी बलपूर्वक कार्रवाई न करने के निर्देश दिए थे।

साथ ही शिकायतकर्ता के वकील को संबंधित वेब सीरीज की विवादित विषयवस्तु को दो प्रतियों में कॉम्पेक्ट डिस्क में पेश करने के निर्देश भी दिए थे। यह एफआईआर वाल्मीक सकरगाये और नीरज याग्निक की शिकायत पर भारतीय दंड विधान की धारा 294, 298 के साथ सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम एवं भारत के राजकीय प्रतीक (अनुचित प्रयोग का निषेध) अधिनियम के प्रावधानों के तहत दर्ज की गयी थी।

शिकायत में आरोप लगाया गया कि कपूर के स्थापित ओटीटी प्लेटफॉर्म ऑल्ट बालाजी पर प्रसारित वेब सीरीज “ट्रिपल एक्स” के सीजन-2 के जरिये समाज में अश्लीलता फैलायी गयी और एक समुदाय विशेष की धार्मिक भावनाएं आहत की गयीं। आरोप में कहा गया कि इस वेब सीरीज के एक दृश्य में भारतीय सेना की वर्दी को आपत्तिजनक तौर पर पेश करते हुए राष्ट्रीय प्रतीक चिन्हों का अपमान किया गया।

Spread the love

11

इंदौर