इंदौर में 100 महिलाएं चलाएगी ई रिक्शा, कमलनाथ ने सौंपी चाबी

इंदौर। इंदौर में 100 महिलाएं सड़कों पर ई रिक्शा चलाएगी। शनिवार को कमलनाथ ने इन महिलाओं को इस रिक्शाओं की चाबी सौंपी ।


मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत महिला सशक्तिकरण के लिये इंदौर में अनूठी पहल की गई है। यहां अब महिलाएं भी सड़कों पर आटो रिक्शा चलाते तथा सवारियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाते हुए दिखेंगी।

इस दिशा में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज एक भव्य समारोह में नई सोच के साथ महिलाओं द्वारा चालित प्रदेश में पहली बार अपनी तरह की अनूठी रिक्शा सेवा “ई-सवारी” का शुभारंभ किया। इंदौर नगर निगम क्षेत्र में 100 महिलाओं को ई रिक्शा उपलब्ध कराये गये हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने महिलाओं को ई-रिक्शा की चाबी सौंपी। उन्होंने ई-रिक्शा की सवारी भी की।

इंदौर के ऐतिहासिक लालबाग परिसर में आयोजित समारोह में सांसद तथा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, इंदौर जिले के प्रभारी तथा गृह मंत्री बाला बच्चन, लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी, स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट, विधायक संजय शुक्ला, विनय बाकलीवाल, प्रमोद टंडन, सदाशिव यादव विशेष रूप से मौजूद थे।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने तथा उनकी सुरक्षा की ओर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

हमारा प्रयास है  कि महिलाएं स्वावलम्बी बनें तथा सम्मान के साथ जीवन यापन करें। इस दिशा में राज्य सरकार द्वारा निरन्तर कारगर प्रयास किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इंदौर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये इंदौर टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल द्वारा निर्मित थीम साँग का विमोचन किया।

उन्होंने ई-रिक्शा सेवा की महिलाओं को आटो रिक्शा की चाबी सौंपी। उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर मंच तक पहुंचने के लिये ई-रिक्शा की सवारी की। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि महिलाओं की सशक्तिकरण के लिये अनूठे प्रयास किये जा रहे हैं।

इसी क्रम में मध्यप्रदेश में देश की पहली और अपने तरह की अनूठी ई-सवारी रिक्शा सेवा का शुभारंभ किया गया। इंदौर से शुरू हुई इस सेवा का विस्तार प्रदेश के सभी नगरीय क्षेत्रों में किया जायेगा। अभी इंदौर में 100 महिलाओं को ई-रिक्शा उपलब्ध करायी गई है।

आगे 500 और महिलाओं को ई-रिक्शा उपलब्ध करायी जायेगी। उन्होंने कहा कि इससे जहां महिलाएं आर्थिक गतिविधियों से जुड़ेंगी, वहीं दूसरी ओर पर्यावरण भी सुधरेगा। उन्होंने महिलाओं को शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम के अन्त में नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख अलीम ने आभार व्यक्त किया।

ई-सवारी योजना
इलेक्ट्रीक वाहन पॉलिसी को प्रभावशाली बनाने तथा इस हेतु महिलाओं की सहभागिता बढाने हेतु प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के अंतर्गत महिलाओं द्वारा चालित वाले ई-रिक्शा का संचालन  प्रारंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत पंजीकृत लाईसेंसधारी महिलाओं को ई-रिक्शा हेतु सब्सिडी उपलब्ध कराकर स्वावलंबी बनाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के अंतर्गत इन पंजीकृत महिलाओं को ई-रिक्शा हेतु 30 प्रतिशत सब्सिडी, फेम योजना के अंतर्गत दी जा रही है। उन्हें 37 हजार रूपये की सब्सिडी एवं 7 प्रतिशत के ऊपर ब्याज पर सब्सिडी दी जा रही है।

पहले चरण में नगर निगम इंदौर के अटल इंदौर सिटी ट्रासपोर्ट सर्विसेस लिमिटेड के अंतर्गत अत्याधुनिक तकनीकी सुविधाओं से सुसज्जित 100 ई-रिक्शा का संचालन महिला चालकों द्वारा प्रारंभ किया जा रहा है।

ई-रिक्शा में रहेंगी अनेक अत्याधुनिक सुविधाएं
इन ई-रिक्शा में यात्रियों की सुविधा हेतु अनेक अत्याधुनिक सुविधाएं रहेंगी। सवारी मुफ्त वाई-फाई का उपयोग कर पाएंगे। एफ एम रेडियो सुन सकेंगे। सवारी डिजिटल पेमेंट के माध्यम से भुगतान कर पाएंगे। रिक्शे में मोबाईल एप्लिकेशन, जी.पी.एस. ट्रैकिंग, मोबाईल चार्जिग आदि सुविधाएं भी उपलब्ध रहेंगी।

शहर में यह रहेंगे रूट

ई-रिक्शा संचालन के लिये शहर के 10 प्रमुख रूट का चयन किया गया है। प्रारंभिक तौर पर इन्हें शहर में अन्नपूर्णा मंदिर से फूटी कोठी, रेल्वे स्टेशन से पिपलियाहाना, मरीमाता चौराहा से कलेक्टर कार्यालय, गौरी नगर से रोबोट चौराहा, आजाद नगर से शनि मंदिर जूनी इंदौर, खजराना चौराहा से परदेशीपुरा, स्कीम नं 78 से जैन नर्सरी, विजय नगर पुलिस स्टेशन से जैन नर्सरी, तुलसी नगर से विजय नगर पुलिस स्टेशन और माणिकबाग से पिपलियाराव रिंग रोड गुरूद्वारा, इस तरह 10 रूटों पर चलाया जायेगा।

Spread the love

इंदौर