इंदौर के महू में चार साल की मासूम के साथ दुष्कर्म के बाद जघन्य हत्या का पर्दाफाश, आरोपी गिरफ्तार

इन्दौर। मप्र के इंदौर जिले के महू में चार साल की मासूम के साथ दुष्कर्म के बाद जघन्य हत्या का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
आरोपी का नाम अंकित विजयवर्गीय पिता कमल सिंह निवासी महू है।


गत एक दिसम्बर को रात्रि करीबन 11 बजे महू कस्बे के साई मंदिर के सामने रोड किनारे 4 साल कि मासूम बालिका को रात्रि मे किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म कर जघन्य हत्या कर दी गई थी।


प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए ADG वरूण कपूर व एसएसपी रूचि वर्धन मिश्र एवं पुलिस अधीक्षक पश्चिम अवधेश गोस्वामी के मार्गदर्शन मे एएसपी महू धर्मराज मीणा व एसडीओपी महू विनोद शर्मा के नेतृत्व मे अलग-अलग 03 टीमे थाना प्रभारी महूं, थाना प्रभारी सांवेर, थाना प्रभारी खुड़ैल व स्टाफ की बनाई गयी।

छानबीन में यह सूचना मिली कि घटना दिनांक को आरोपी अंकित की आवाजाही सांई मदिंर व आसपास ही थी एवं सीसीटीव्ही फुटेज से प्राप्त विडियो के आधार पर संदिग्ध अंकित विजयवर्गीय ही दिखने के बाद महू क्षैत्र के सभी सीसीटीव्ही फुटेजो को खंगाला गया तो यह जानकारी प्राप्त हुई कि घटना के वक्त उक्त संदिग्ध अंकित घटना स्थल सांई बाबा मंदिर के सामने मुख्य मार्ग पर देखा गया एवं उसके बाद वही संदिग्ध अंकित विजयवर्गीय 04 वर्षीय छोटी बालिका को उठाकर भागते हुए सीसीटीव्ही फुटेज मे देखा गया। उक्त जानकारी मिलने के बाद इसकी पुष्ठी क्षैत्र के अन्य सीसीटीव्ही फुटेज से हुई, जिसके आधार पर संदिग्ध अंकित की तलाश की गयी।


पुलिस टीम द्वारा पतासाजी कर संदिग्ध अंकित को पकड़ा गया, जिसने पूछताछ में अपना जुर्म स्वीकार किया औऱ बताया कि वह पूर्व मे भी उक्त खण्डहर मे घूमता था एवं खण्डहर की समस्त जानकारी उसको थी।

घटना दिंनाक को 04 वर्षिय मासूम बालिका सांई मदिंर के सामने अपने माता पिता के साथ सो रही थी जिसे मेने मौका देखकर सोती हुई बालिका को उठाकर तेज भागते हुए सीधे खण्डहर मे ले ग़या औऱ खण्डहर मे बालिका के साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान बालिका तेज आवाज के साथ रोने लगी तो मैने बालिका का मुंह दबा दिया, जिससे बालिका मौके पर ही मर चुकी थी, घबराहट मे मैने बालिका को उसी हालत मे छौडकर पास ही स्थित अपने घर पर जाकर चुपचाप सो गया। दूसरे दिन अपने घर से ही घटना स्थल के आस पास ही पुलिस कि गतिविधियों पर नजर रख रहा था।


उक्त हत्याकांण्ड का पर्दाफाश करने में थाना प्रभारी महूं अभय नेमा, थाना प्रभारी सांवेर योगेशसिंह तोमर, थाना प्रभारी खुडेल रुपेश दूबे, उनि. सुखलाल दिवाकर, उनि रविन्द्र पंवार, उनि मिकिता चौहान, उनि कदमसिंह मीणा, उनि देवेश पाल, सउनि मेहताब सिह, सउनि मालसिंह, सउनि जितेन्द्र मिश्रा, प्रआर विजय यादव, प्रआर राकेश चौहान , प्रआर रमेशचन्द्र, प्रआर केदार सिह, प्रआर औमेन्द्र भाटी, प्रआर मुकेश नागर, आर योगेश रघुवंशी, आर नरेन्द्र, आर नीरज यादव, आर रवि तिवारी, आर सुबोध सिंह, आर श्याम, आर धर्मेन्द्र, आर शंकर , आर ब्रम्हानंद, आर हितेश परिहार, आर सुरेश सौलंकी, आर संतोष पाण्डे, आर राकेश गोडाले, आर संतोष कछवारे, आर कन्हैय्या, मआर धन्ना डामोर, महिला आर सुमवती, आर विजय सिंह चौहान, आर राजाराम, आर जितेन्द्र जादौन का योगदान रहा।

Spread the love

इंदौर