Aug 21 2019 /
11:20 AM

इंदौर में पति से प्रताड़ना के साथ ही पत्नी को एड्स बीमारी भी मिली, कोर्ट ने दिए चार लाख हर्जाने के आदेश

इंदौर। इंदौर में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें एड्स पीड़ित पति ने अपनी बीमारी छुपाकर शादी की जिससे पत्नी को भी एड्स की बीमारी हो गई। इसके अलावा उसे दहेज के नाम पर प्रताड़ना भी दी गई।

घरेलू हिंसा एक्ट में कोर्ट में महिला द्वारा मामला लगाए जाने पर प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी कमलेश कुमार सोनी की कोर्ट ने महिला को चार लाख रुपए हर्जाना के रूप में देने के आदेश पति को दिए। इसके अलावा ₹15000 प्रतिमाह भरण पोषण के रूप में महिला उसके पुत्र को अदा करने होंगे।
मामला इस प्रकार है कि पीड़ित महिला की शादी 28 जनवरी 2012 को इंदौर में रहने वाले राकेश (परिवर्तित नाम) से हुई थी। शादी के बाद से ही उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाने लगा। इस बीच मई 2012 में वह गर्भवती हुई तो पति व ससुराल पक्ष के लोगों ने दवाब बनाकर उसका एबॉर्शन करवा दिया। 2013 में वह पुनः गर्भवती हुई तो फिर से उस पर एबॉर्शन का दबाव बनाया गया।

जब उसे 6 माह का गर्भ था तब उसकी तबीयत बिगड़ी और उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया तो मेडिकल जांच में यह चौकाने वाली बात सामने आई कि महिला को एड्स है। इसके बाद जब डॉक्टरों की टीम ने उसके पति से पूछताछ की तो उसने स्वीकार किया कि उसे सन 2004 से ही एड्स था।

यह बात छुपा कर उसने शादी कर ली थी जिससे महिला को बजी एड्स हो गया। बाद में महिला ने पुत्र को जन्म दिया। इसके बाद जब ससुराल में रहने गई तो पति व ससुराल वालों ने प्रताड़ित करके उसे घर से निकाल दिया। इसके बाद महिला ने एडवोकेट अमर सिंह राठौर के माध्यम से कोर्ट में घरेलू हिंसा के तहत मामला लगाकर हर्जाने व भरण पोषण की मांग की।

एडवोकेट ने बताया कि महिला की ओर से पेश तर्कों के आधार पर कोर्ट ने पति को आदेश दिया कि वह महिला को ₹400000 हर्जाने के रूप में अदा करें और महिला व उसके बेटे को 15 हजार रुपये महीना भरण पोषण रूप में अदा करें।

Spread the love

इंदौर