इंदौर में जीजा साला मिलकर चला रहे थे नकली कत्था बनाने की फैक्ट्री, मालिक जलगांव का निवासी, केमिकल पाउडर का सम्मिश्रण कर बनाया जा रहा था कत्था

इंदौर। इंदौर में जीजा साला मिलकर नकली कत्था बनाने की फैक्ट्री चला रहे थे। केमिकल पाउडर का सम्मिश्रण कर कत्था बनाया जा रहा था। क्राइम ब्रांच ने मामला पकड़ा है। मालिक मूल रूप से जलगांव महाराष्ट्र का निवासी हैं।

यहाँ पर ट्राईटैनियम डाई ऑक्साईड, पोटेशियम मेटाबिसल्फेट, चिमोलियम, माईक्रोन्यूज्ड आदि केमिकल पदार्थों का सम्मिश्रण कर अमानक मिलावटी व नकली कत्था बनाया जा रहा था।


उपरोक्त फर्म के संचालक मनोज पिता सूरजबरी पाठक उम्र 48 वर्ष निवासी सहारा सिटी कनाड़िया इंदौर और दिनेश पिता चिरंजीलाल पथरिया उम्र 48 वर्ष निवासी चौहान नगर पिपलिया तिलकनगर इंदौर है।


डीआईजी मनीष कपूरिया के निर्देशन में एसपी मुख्यालय अरविंद तिवारी के मार्गदर्शन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक क्राईम ब्रांच गुरुप्रसाद पाराशर की टीम ने यह कार्रवाई की।

क्राईम ब्रांच को आसूचना संकलन के दौरान मुखबिर तंत्र के माध्यम से सूचना मिली थी कि पानाल कम्पाउण्ड लसूड़िया मोरी में देवास नाका जिला इंदौर में बालाजी इण्डस्ट्रीज नामक फैक्ट्री में अवैध रूप से नकली कत्थे का निर्माण किया जा रहा है जो कि बहुतायात में खैर लकड़ी की जगह अमानक पाउडर व अन्य केमिकल अवयवों का उपयोग कर मशीनों से कत्था बनाकर उसको पैक कर महाराष्ट्र जलगांव, अजमेर राजस्थान व कटनी जबलपुर तथा गुना ग्वालियर क्षेत्रों में सप्लाय किया जाता है। सूचना पर क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम ने खाद्य एवं औषधि के साथ संयुक्त कार्यवाही की।


करते हुये उपरोक्त फैक्ट्री पर यहाँ अस्वचछ व बेहद गंदगी के माहौल में खैर की जगह केमिकल पाउडर का प्रयोग कर के मशीनों से कत्थे का निर्माण किया जा रहा था तथा उनकी पैकिंग की जा रही थी जिन पर किसी भी प्रकार के गुणवत्ता व मानकता संबंधी लेबल चस्पा नहीं थे। उल्लेखनीय यह भी है कि फैक्ट्री से 06 पेटी देशी अवैध देशी शराब भी बरामद हुई है। मौके पर संचालक नीरज कुमार उपस्थित मिला तथा जांच पड़ताल में फैक्ट्री का मालिक मोहन पिता अशोक मंडोरा माहेश्वरी उम्र 45 वर्ष निवासी आकाशवाणी चौक जलगांव महाराष्ट्र होना ज्ञात हुआ।


टीम ने पाया कि आरोपीगण ट्राईटैनियम डाई ऑक्साईड, पोटेशियम मेटाबिसल्फेट, चिमोलियम, माईक्रोन्यूज्ड आदि केमिकल पदार्थों का सम्मिश्रण कर अमानक मिलावटी व नकली कत्था बनाया जा रहा था। आरोपी ने बताया कि पिछले 05 वर्षों से उपरोक्त प्रकार के अमानक व मिलावटी कत्था बनाकर वह कई राज्यों में खपा रहा था जिसकी फैक्ट्री का अनुमानित टर्नओवर 01 करोड़ रूपये वार्षिक है।

आरोपी ने बताया कि वह उपरोक्त प्रकार के पाउडर को रत्नागिरी महाराष्ट्र से खरीदता था और कभी कभी खैर की लकड़ी के साथ सम्मिश्रण कर भी कत्था बनाता था। आरोपी ने बताया कि ज्यादा मात्रा में उत्पादन करने हेतु चिमोलियम और पोटेशियम मेटाबिसल्फेट को मिलाता था।

फैक्ट्री से लगभग 10 लाख रूपये कीमत की सामग्री बरामद हुई जिसमें पेस्ट के पाउच, बोतल, व डिब्बे आदि कई प्रकार की पैकिंग के करीबन 300 कार्टून हैं व बड़ी मात्रा में कच्चा माल तथा अधबना माल बरामद हुआ है। आरोपी बहार पेस्ट नाम से माल सप्लाय करता था कारखाने मं लाखों रूपये कीमत की मशीने व संयत्र लगे पाये गये। फैक्ट्री मालिक व संचालक परस्पर जीजा-साले हैं। फैक्ट्री से मिला समस्त माल नकली व मिलावटी है जिसकी गुणवत्ता के लेवल व अन्य पैकिंग पहचान चिन्ह भी चस्पा नहीं किये गये थे। खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम द्वारा सैंपल लिये गये है जिनकी जांच रिपोर्ट के आधार पर तद्नुसार अग्रिम कार्यवाही की जायेगी वर्तमान में संचालक को हिरासत में लेकर थाना लसूड़िया में अवैध शराब का धारा 34(2) भादवि के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है।

इसी प्रकार एक अन्य कार्यवाही में क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम को सूचना मिली थी कि शिवम इण्डस्ट्रीज पालदा नेमावर रोड भवंरकुआ में अमानक स्तर के जूस संबंधी उत्पादों का निर्माण किया जा रहा है जिसमें मैगों जूस व अन्य पल्प के कई प्रकार के ज्यूसों को बनाया जाता था। सूचना पर खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम के साथ क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम ने दविश दी जहां से सैम्पल जांच हेतु लिये गये हैं जांच रिपोर्ट प्राप्त होने पर विधिसंगत कार्यवाही की जायेगी।

Spread the love

इंदौर