इंदौर में अनूठी धोखाधड़ी, मौज मस्ती करने एवं पबजी गेम की लत के कारण अपनी ही दादी को लगाया पौने दो लाख का चूना, पोता सायबर सेल की गिरफ्त में

इंदौर। इंदौर में अनूठी धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। अपनी मौज मस्ती करने एवं पबजी गेम की लत के कारण एक पोते ने अपनी ही दादी को ही करीब पौने दो लाख रुपये का चूना लगा दिया। आरोपी पोते को सायबर सेल ने गिरफ्तार कर लिया है।

एसपी राज्य सायबर सेल इंदौर जितेंद्र सिंह ने बताया किआरोपी कक्षा 10 तक पढा लिखा हैं। वह अपने साथीयों की बराबरी करने के लिए एमपीईबी से सेवानिवृत्त स्वं. दादा की पेशनभोगी दादी के खाते से पेंशन की रकम उड़ाई। आरोपी अपनी दादी एवं घर वालों को पता ना लगे इसीलिए बैंक में रजिस्टर्ड मोबाईल नंबर पर ओटीपी देखकर डिलीट कर देता था।


इस मामले में शिकायतकर्ता वृद्ध महिला के द्वारा शिकायत की गई थी कि उसके साथ उसके डेबिट कार्ड का उपयोग कर लगभग 1.75 लाख रुपए की धोखाधडी अज्ञात व्यक्ति द्वारा की गई।

के जांच में आनलाईन वालेट एवं टेलिकाम कंपनी से प्राप्त जानकारी के आधार पर आवेदिका के पौते को पूछताछ हेतु बुलवाया गया जिसमे आरोपी से सख्ती से पूछताछ करने पर उसके द्वारा अपनी दादी के एसबीआई के एटीएम कार्ड का धोखाधडी से अपने पेटीएम,गुगल पे एवं फोन पे में लिंक होना बताया एवं ट्रांजेक्शन के समय आने वाले ओटीपी को चुपके से देख कर डिलिट करना बताया।

जिससे दादी एवं बाकी घर वालों को पता न चल सके। अपने साथी संगियों के सामने अच्छे रहन सहन व मौज मस्ती करने के लिए दादी के कार्ड का उपयोंग आनलाईन पैमेंट करने के लिए करता था एवं आरोपी पबजी गेम खेलने का शौकीन हैं ओर उसके प्लेयरर्स की ड्रेस एवं गन्स को अपग्रेड करने के लिए दादी के कार्ड से पैमेंट करता था। आरोपी के पास से अपराध में प्रयुक्त मोबाईल एवं सिम को जप्त किया गया।


उक्त अपराध के खुलासे मे निरी0 राशिद अहमद, उप0निरी0 संजय चौधरी, आरक्षक विवेक मिश्रा, गजेन्द्र सिंह राठौर की भूमिका रही।

चचेरी बहन को कर रहा था बदनाम
एक अन्य आरोपी को पकड़ा गया जो पारिवारिक विवाद में अपनी चचेरी बहन को ही फर्जी आई.डी. बनाकर बदनाम कर रहा था।


आवेदिका ने शिकायत में बताया कि किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा मेरे नाम से बार-बार फर्जी फेसबुक आई0डी0, इन्स्टाग्राम आईडी बना कर उस पर अनर्गल फोटो डाल रखे है । उक्त आई.डी. से गंदे कमेन्ट व् अश्लील फोटो अपलोड किए गये।

जांच में तकनीकी जानकारी के आधार पर पाया गया कि आरोपी कृष्णलाल पिता किशोर निवासी धामनोद जिला धार द्वारा आवेदिका के नाम एवं निजी फोटो का उपयोग कर फेसबुक व् इन्स्टाग्राम पर फर्जी आई.डी. बनाई एवं गंदे कमेन्ट व् अश्लील फोटो अपलोड किये गये। आरोपी से पूछताछ करने उसने बताया कि उसने पारिवारिक विवाद के चलते यह कृत्य किया।


आरोपी की गिरफ्तारी एवं तकनीकी जाँच में निरीक्षक अम्बरीश मिश्रा, उनि. अम्बाराम बारूड, उनि विनोद सिंह राठौर, आर. विक्रांत तिवारी, विशाल महाजन, आशीष शुक्ला म.आर. विनीता त्रिपाठी की भूमिका रही।

Spread the love

इंदौर