सफाई में इंदौर से प्रेरणा ले रहा पूरा देश-मोदी

इंदौर को डबल बधाई, पहले मै इंदौर आता था, अब आना पड़ा

इंदौर। .प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को इंदौर, भोपाल सहित 12 स्वच्छ शहरों को पुरस्कृत किया। इस दौरान उन्होंने खुले दिल से इंदौर वासियों क तारीफ करते हुए कहा कि सही मायने में सिविक सेंस अपना कर यहां के लोगों ने देवी अहिल्याबाई को सही सच्ची श्रद्धांजलि दी है। यही कारण है कि इंदौर लगातार दूसरे साल सफाई में नंबर वन आया है। आज समूचा देश सफाई के मामले में इंदौर से प्रेरणा ले रहा है। पहले मैं इंदौर आता था, लेकिन इंदौर वासियों के इस योगदान को देखते हुए मुझे इस बार इंदौर आना पड़ा। उन्होंने कहा कि इंदौर को डबल बधाई।

स्थानीय नेहरु स्टेडियम में पानी की बौछारों के बीच उन्होंने विशाल जनसमुदाय को संबोधित करते हुए उक्त बात कही। समारोह में लोकसभा अध्यक्ष इंदौर की सांसद सुमित्रा महाजन, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री -शिवराज सिंह चौहान,महापौर -मालिनी लक्ष्मण सिंह गौड़, बीजेपी महासचिव- कैलाश विजयवर्गीयउपस्थित थे। मोदी ने कहा कि इंदौर की सफलता जनभागीदारी की सफलता की मिसाल बन गया है। ये ऐसा उदाहरण है, जो अभूतपूर्व है, इंदौर की जनता की इस जीवटता को नमन है। मुझे खुशी है कि आज इंदौर, भोपाल और मध्य प्रदेश के लोग स्वच्छाग्रह और नागरिक कर्तव्य को निभाकर देवी अहिल्या बाई को सच्ची श्रद्धांजलि दे रहे हैं।

 

 

देश, समाज और व्यक्ति के बदलने से पहले सोच का बदलना जरूरी होता है। स्वच्छता को लेकर बदली हुई सोच का परिणाम है कि आज हम यहां इक_ा हुए हैं। जो लोग स्वच्छ भारत का मजाक उड़ाते हैं, उन्हें इंदौर ने दिखा दिया कि बदलने का मतलब क्या होता है। जब से ये रैंकिंग शुरू हुई है, तब से शहरों में स्वच्छता को लेकर एक कम्पटीशन शुरू हुआ है। लोग प्रयास कर रहे हैं, भागीदार बढ़ रही है। चार साल पहले शुरू किए स्वच्छ भारत अभियान को सवा सौ करोड़ देशवासियों ने हाथो ंहाथ लिया है। देश के 18 राज्यों के 2300 शहरों ने 8 करोड़ बीस लाख शौचालय बनाकर खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया है। अगले साल महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर स्वच्छ भारत का सपना अब बहुत दूर नहीं है, यह जरुर पूरा होगा।

कांग्रेस का समय याद दिलाया
मोदी ने कांग्रेस के शासनकाल का समय याद दिलाते हुए कहा कि गंदगी, यातायात की अव्यवस्था, खराब सड़कें ये पहचान कांग्रेस के शासन काल में शहरों को दी गई थी। हमारी सरकार वेस्ट टू वेल्थ, वेस्ट टू एनर्जी के मार्ग पर बढ़ रही है। एक लाख परिवार जो सड़कों, झुग्गी-झोपडयि़ों में जीवन बिताते थे, वे अपने घरों में गए। हमारे देश में आवास योजनाएं पहले भी थीं, लेकिन उन्हें कैसे लागू किया गया.. बच्चा-बच्चा जानता है। योजनाओं का नाम, हितग्राहियों का चयन, सामग्री, प्रक्रिया सबमें गड़बड़ी होती थी और ये इतिहास में दर्ज है। जब मादी भाषण दे रहे थे, इसी दौरान स्टेडियम में बारिश शुरु हो गइ। हांलाकि इस दौरान भी लोग बैठे रहे और भाषण सुनते रहे।

मालिनी, मनीषसिंह ने लिया पुरस्कार
कार्यक्रम के दोरान इंदौर को देश में दूसरी बार स्चच्छता में नंबर वन रहने पर मोदी ने पुरस्कृत किया। यह पुरस्कार इंदौर की ओर से महापौर मालिनी गौड़ व तत्कालीन निगमायुक्त मौजूदा उज्जैन कलेक्टर मनीष सिंह ने ग्रहण किया।

र्भाषण के अंत में जलवाई टार्च
मोदी ने अपने भाषण की समाप्ति पर सभा में उपस्थित सभ्ीा लोगों से अपने अपने मोबाईल की टार्च जलाने का आग्रह किया। इसके चलते पूरा स्टेडियत टार्च की रोशनी से जगमगाने लगा।

Spread the love

इंदौर