दिलीप कुमार के निधन पर कई हस्तियों ने जताया शोक,आज शाम 5 बजे जुहू स्थित कब्रिस्तान में किया जाएगा सुपुर्द-ए-खाक

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता रहे ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार का निधन हो गया है। बुधवार सुबह 7.30 बजे 98 साल की उम्र में उन्होंने मुंबई के हिंदुआ अस्पताल में अंतिम सांस ली।वे सांस लेने में दिक्कत होने पर उन्हें यहां 29 जून को भर्ती किया गया था। वे पिछले दिनों से बीमार चल रहे थे और बार-बार अस्पताल में भर्ती करवाया जा रहा था। पिछले एक महीने में उन्हें दूसरी बार अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। हर बार उनकी पत्नी सायरा बानो साथ रहीं।

दिलीप कुमार का असली नाम मोहम्मद यूसुफ खान था।दिलीप साहब का जन्म 11 दिसंबर 1922 को ब्रिटिश इंडिया के पेशावर (अब पाकिस्तान में) में हुआ था। उन्होंने अपनी पढ़ाई नासिक में की थी। करीब 22 साल की उम्र में ही दिलीप कुमार को पहली फिल्म मिल गई थी। 1944 में उन्होंने फिल्म ज्वार भाटा में काम किया था

उनके पाली हिल स्थित घर पर श्रद्धांजलि देने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, NCP प्रमुख शरद पवार और शाहरुख खान पहुंचे। दिलीप कुमार को आज शाम 5 बजे जुहू स्थित कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। इसमें सीमित संख्या में लोग शामिल होंगे।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने उन्हें महान कलाकार बताया। वहीं पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति डॉक्‍टर आरिफ अल्‍वी ने कहा कि दिलीप कुमार के निधन की खबर सुनकर बहुत दुखी हूं। वह एक शानदार कलाकार, विनम्र इंसान और शानदार व्‍यक्तित्‍व के धनी थे।

पीएम मोदी ने दिलीब साहब की पत्नी सायरा बानो से फोन पर बात की। पीएम ने करीब 10 मिनट फोन पर बात की और परिवार को ढांढस बंधाया। पीएम मोदी ने सोशल मीडिया पर भी शोक जताया।

फैजल फारूकी ने दिलीप कुमार के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर सुबह आठ बजकर एक मिनट पर अभिनेता के निधन की जानकारी दी। फैजल ने लिखा लिखा, ‘भारी मन और बेहद दु:ख के साथ, मैं यह घोषणा कर रहा हूं कि कुछ मिनट पहले हमारे प्यारे दिलीप साहब का निधन हो गया। हम अल्लाह के बंदे हैं और हमें उनके पास ही लौटकर जाना होता है।’

अभिनेता शाहरुख खान को दिलीप कुमार अपने बेटे की तरह ही मानते थे। दिलीप साहब के जाने के बाद शाहरुख, बेटे की जिम्मेदारी निभाते हुए उनके अंतिम दर्शन पर गम में डूबी सायरा बानो के पास बैठकर उन्हें ढांढस देते हुए नज़र आए।

दिलीप कुमार ने पांच दशक के करियर में करीब 60 फिल्मों में काम किया था। उनके बारे में एक बात और कही जाती है कि उन्होंने अपने करियर में कई फिल्मों को ठुकरा दिया था, क्योंकि उनका मानना था कि फिल्में कम हों, लेकिन बेहतर हों। कई लोग बताते हैं कि उन्हें इस बात का मलाल रहा था कि वे ‘प्यासा’ और ‘दीवार’ में काम नहीं कर पाए।

उनकी कुछ हिट फिल्मों में ‘ज्वार भाटा’ (1944), ‘अंदाज’ (1949), ‘आन’ (1952), ‘देवदास’ (1955), ‘आजाद’ (1955), ‘मुगल-ए-आजम’ (1960), ‘गंगा जमुना’ (1961), ‘क्रान्ति’ (1981), ‘कर्मा’ (1986) और ‘सौदागर’ (1991) शामिल हैं।

दिलीप कुमार के निधन पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, अमिताभ बच्चन, अजय देवगन और अक्षय कुमार सहित कई हस्तियों ने उनके निधन पर शोक जताया है।

Spread the love

इंदौर