खुदकुशी के बाद जागी पुलिस

इंदौर। इंदौर पुलिस की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। छेड़छाड़ और ब्लैकमेलिंग की लगातार 5 दिन तक थाने में शिकायत करती रही लेकिन जब उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई तो तंग आकर गुरुवार रात 10वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुसाइड नोट में छात्रा ने पिता से माफी मांगते हुए खुद की इमेज खराब होने की बात कही।

उक्त 16 वर्षीय छात्रा गायत्री पिता जगदीश जाट निवासी प्रजापत नगर थी। मिली जानकारी के अनुसार उसे वहीं रहने वाला मिलन चौहान परेशान कर रहा था। वह आए दिन उसका पीछा और छेड़छाड़ करता था। छात्रा के परिजन युवक के घर समझाने गए थे। वहां युवक की मां माया ने उलटा उन्हें तेजाब फेंकने की धमकी देते हुए कहा था कि चाहे कितनी ही पुलिस आ जाए। मेरे बेटे का कुछ नहीं कर सकती।

*खुदकुशी के बाद जागी पुलिस*

मामले की शिकायत के लिए लगातार5 दिन से द्वारकापुरी थाने पर जा रहे थे, लेकिन दिखवाते है की बात कहकर पुलिस टालती रही। अंततः छात्रा ने खुदकुशी कर ली। इस घटना बाद आक्रोशित लोगों ने थाने पर हंगामा किया। इसके बाद पुलिस जागी। डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने कार्रवाई नहीं करने पर एसआई ओंकार सिंह कुशवाह को सस्पेंड कर दिया। युवक पर केस दर्ज करने के निर्देश दिए। लापरवाही को लेकर एएसपी से शुक्रवार सुबह तक रिपोर्ट मांगी है। इसके बाद पुलिस ने आरोपी युवक व उसके परिजनों पर मुकदमा कायम किया।

सुसाइड नोट लिखा
खुदकुशी करने से पहले गायत्री ने एक पन्ने का सुसाइड नोट भी लिखा। इसमे बताया कि अपने पापा को सम्बोधित करते हुए बताया कि किस तरह से आरोपी ने उसके गलत फोटो फेसबुक पर अपलोड कर दिये थे। इस कारण उसकी इमेज खराब हो रही थी। उसने लिखा कि पापा मुझे लगा कि जब मैं ही नही रहूंगी तो सारी बात खत्म हो जाएगी।

 

खुदकुशी मामले में थाने का घेराव

द्वारकापुरी क्षेत्र में छेड़छाड़ से परेशान होकर आत्महत्या करने वाली लड़की के परिजन व अन्य ने शुक्रवार दोपहर में द्वारकापुरी थाने बाद घेराव कर चक्काजाम कर दिया।

 

Spread the love

इंदौर