बिना कोचिंग क्लास ज्वाइन किए होनहार अथर्व रांगणेकर ने केट परीक्षा में इंदौर में किया टॉप

इंदौर। क्या यह सम्भव है.. इंदौर के मीडिया जगत से…? कि कोई किसी भी प्रकार के कोचिंग इंस्टिट्यूट की सेवाएं न ले…फिर भी पूरे शहर में अव्वल आये और मीडिया जगत में स्थान पाए…??इसलिये नही कि प्रचार मिले… फोटो छपे….वरन इसलिए कि जो महंगी क्लासेस ज्वाइन नही कर सकते….वे भी अव्वल आ सकते है….


मसला हाल ही में आये केट (आईआईएम की प्रवेश कामन टेस्ट) के रिजल्ट्स से जुड़ा है। इसमें इंदौर में 99 परसेंट से भी ऊपर अंक लाने वाले होनहार स्टूडेंट्स भी है। वे प्रचारित भी हो रहे है। बधाई सभी को…। 99 फीसदी से ज्यादा अंक लाना कोई आसान है..??? लेकिन, इन सबके बीच एक होनहार नोनिहाल ऐसा भी है जो प्रचार पा रहे बच्चो से भी ज्यादा अंक लाया है। यानी इंदौर का टॉपर, पर कोचिंग नही गया….लिहाजा मीडिया जगत से अछूता रह गया।


अथर्व रांगणेकर …ये नाम है उस बालक का जिसने घर मे बैठकर अध्ययन किया और अव्वल किया…पूरे इंदौर में। विजय नगर स्कीम नम्बर 54 इंदौर निवासी अथर्व को 99.82 परसेंटाइल अंक मिले। बधाई अथर्व।

बकलम- वरिष्ठ पत्रकार नितिन शर्मा

Spread the love

इंदौर