राफेल पर पुनर्विचार याचिका खारिज, राहुल की माफी स्वीकार, सबरीमाला मन्दिर विवाद 7 जजों की पीठ को भेजा

दिल्ली। गुरुवार को तुन में से दो मामलों में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया जबकि तीसरे का अटक गया। कोर्ट ने राफेल पर पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी वही राहुल गांधी की माफी स्वीकार कर ली। सबरीमाला मन्दिर विवाद 7 जजों की पीठ को भेज दिया गया।


राफेल सौदे में आज सुप्रीम कोर्ट ने रिव्यू पीटिशन पर फैसला सुनाते हुए पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज कर दिया। इसके अलावा राफेल डील के सीबीआई जांच से भी सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है और राफेल डील विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने 14 दिसंबर 2018 के अपने फैसले को बरकरार रखा है।

उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव के दौरान राफेल विमान सौदे का मामला इतना बड़ा हो गया था कि अदालत के फैसले के बाद भी कई पुनर्विचार याचिकाएं लगाई गई थी। 2018 में कोर्ट राफेल की कीमत और कॉन्ट्रेक्ट पर सरकार को क्लीन चिट दे चुकी है।

इस मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी तथा प्रशांत भूषण समेत कुछ अन्य की याचिकाओं पर फैसला आया है जिनमें पिछले साल के 14 दिसंबर के उस फैसले पर पुनर्विचार की मांग की गयी है।


इसी तरह सुप्रीम कोर्ट ने ‘चौकीदार चोर है’ के केस में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की माफी को भी स्वीकार कर लिया। हालांकि कोर्ट ने राहुल गांधी की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर दिए गए बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया।

अब बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लेकर कांग्रेस और राहुल गांधी पर हमला बोला है। बीजेपी ने कहा है कि राहुल गांधी को अपनी टिप्पणियों के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।
इधर केरल के सबरीमला मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने आज कोई फैसला नहीं दिया।

तीन जजों की बेंच ने आज पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए इसे बड़ी बेंच को भेज दिया है. कोर्ट ने कहा कि इन सभी सवालों को हम तीन जज बहुमत से 7 जजों की बडी बेंच को सौंप रहे हैं, तब तक इस मामले में तय सवालों का जवाब लंबित माना जाए।


पांच जजों की बेंच में दो जजों ने अपने पुराने फैसले को बरकरार रखा है। इनमें जस्टिस नरीमन और जस्टिस चंद्रचूड़ शामिल हैं।

Spread the love

8

इंदौर