मप्र में नवरात्रि पर दुर्गा प्रतिमाओं पर नहीं रहेगा 6 फीट ऊंचाई का प्रतिबंध, गरबे नही, दशहरे पर रावण दहन भी हो सकेगा, सीएम शिवराज ने दी जानकारी


भोपाल। मप्र में आगामी नवरात्रि पर दुर्गा प्रतिमाओं पर 6 फीट ऊंचाई का प्रतिबंध नहीं रहेगा साथ ही दशहरे पर रावण दहन भी हो सकेगा। शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की गई।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि दुर्गा उत्सव में स्थापित की जाने वाली दुर्गा प्रतिमाओं पर 6 फीट ऊंचाई का प्रतिबंध नहीं रहेगा, इस हेतु लगने वाले पंडालों का अधिकतम आकार 30 X 45 फीट होगा। उन्होंने बताया कि चल समारोह की अनुमति नहीं होगी तथा आयोजन समिति के अधिकतम 10 व्यक्ति दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन कर सकेंगे।

दुर्गा उत्सव पर गरबा करने की अनुमति नहीं होगी। इसी तरह दशहरा उत्सव पर रामलीला एवं रावण दहन किया जा सकेगा, परंतु सभी आयोजनों में मास्क लगाना तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना पूरी तरह अनिवार्य रहेगा। ऐसी झांकियां नहीं बनाई जा सकेंगी, जिनमें किसी भी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन हो।

बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, डी.जी.पी. विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, आयुक्त जनसंपर्क सुदाम खाड़े आदि उपस्थित थे।

त्यौहारों एवं सर्दियों के लिए करें ‘एडवांस प्लानिंग’

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि आगामी त्योहारों एवं सर्दी के समय कोरोना संक्रमण अधिक फैल सकता है, अत: इसके लिए ‘एडवांस प्लानिंग’ कर लें। मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग आदि सावधानियों का पूरा पालन सुनिश्चित किए जाने के साथ ही प्रदेश की स्वास्थ्य अधोसंरचना एवं स्वास्थ्य सुविधाओं का भी विस्तार किया जाए।

एक्टिव मरीजों की संख्या 20 हजार से नीचे

प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 20 हजार से नीचे 19807 हो गई है। इसका कारण नए प्रकरणों की संख्या के अनुपात में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या निरंतर बढ़ रही है। प्रदेश में गत दिवस 1811 नए प्रकरण मिले हैं, जबकि 2101 स्वस्थ होकर घर गए हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या में1 दिन में 317 की कमी आई है।

रिकवरी रेट 83.4 प्रतिशत

प्रदेश की रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रही है। अब यह 83.4 प्रतिशत हो गई है। वहीं प्रदेश की मृत्यु दर निरंतर कम हो रही है, अब यह 1.79 प्रतिशत हो गई है। पॉजिटिविटी रेट 6.32 तथा टैस्ट प्रति दस लाख 26 हजार 548 हैं।

सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वालों को सम्मानित करेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि जिन जिलों में कोरोना संबंधी सर्वश्रेष्ठ कार्य हुआ है वहां के कलेक्टर्स, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी आदि को सम्मानित किया जाएगा। समीक्षा में बुरहानपुर जिले का कार्य श्रेष्ठ पाया गया है। बुरहानपुर में 3 नए प्रकरण पाए गए है तथा यहां की ग्रोथ रेट 0.42 प्रतिशत है। वहां कुल 718 पॉजीटिव प्रकरणों में से 667 स्वस्थ हो गए हैं। आगर-मालवा, भिंड, खंडवा आदि जिलों में भी बेहतर कार्य हुआ है।

होशंगाबाद एवं सिंगरौली विशेष ध्यान दें

समीक्षा में पाया गया कि होशंगाबाद एवं सिंगरौली जिलों की तुलनात्मक रूप से पॉजीटिविटी एवं ग्रोथ रेट अधिक है। होशंगाबाद की पॉजिटिविटी रेट 17.13 प्रतिशत है तथा ग्रोथ रेट 3.98 प्रतिशत है। सिंगरौली की पॉजजिटिविटी रेट 6.14 प्रतिशत तथा ग्रोथ रेट 2.90 प्रतिशत है। दोनों जिलों में कलेक्टर्स को विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए।

भोपाल की ग्रोथ रेट 1.42 प्रतिशत

जिलावार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना नियंत्रण की स्थिति बेहतर हो रही है। सर्वाधिक कोरोना प्रकरणों वाले 10 जिलों में इंदौर की कोरोना ग्रोथ रेट 2.02 प्रतिशत, भोपाल की 1.42 प्रतिशत, जबलपुर की 1.92 प्रतिशत, ग्वालियर की 0.95 प्रतिशत, होशंगाबाद की 3.98 प्रतिशत, नरसिंहपुर की 2.12 प्रतिशत, सागर की 1.85 प्रतिशत, शिवपुरी की 1.37 प्रतिशत, सीहोर की 1.73 प्रतिशत तथा सीधी की 2.81 प्रतिशत है।

Spread the love

19

इंदौर