यूपी की गैंग ने इन्दौर की आइल कम्पनी का ई-मेल आइडी हैक कर ठगे लाखों रुपए, सायबर सेल ने युवती सहित चार को किया गिरफ्तार


इंदौर। यूपी की एक गैंग ने इन्दौर की आइल कम्पनी का ई-मेल आइडी हैक कर लाखों रुपए ठग लिए। राज्य सायबर सेल इंदौर ने ने एक युवती सहित चार को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों में

1- सैयदा बेगम पत्नी अब्दुल सत्तार उम्र- 27 साल नि0-21 कल्याणपुर कालीके पास थाना तिवारीपुर गोरखपुर,

2- परवेज अहमद पुत्र हसन अहमद उम्र- 39 साल नि0 म0न0 134 मुहल्ला निजामपुर थाना थाना तिवारीपुर जनपद-गोरखपुर


3- ग्यासुद्दीन खान उर्फ सानू पुत्र कमालुद्दीन खान उम्र- 27 साल नि0-78 बी गोसीपुरा प्राइमरी स्कूल के पास थाना-तिवारीपुर जनपद गोरखपुर।


4-आशीष जायसवाल पुत्र राधेश्याम जायसवाल उम्र- 37 साल नि0-ग्राम-व थाना -बाॅसगाॅव जनपद गोरखपुर। वर्तमान पता-म0न0 350 सी राप्तीनगर थाना शाहपुर जनपद गोरखपुर शामिल हैं। इन्दौर सायबर सेल की टीम ने लगातार कानपुर, लखनऊ एवं गोरखपुर में छापामारी कर इन्हें पकड़ा।

एसपी राज्य सायबर सेल इंदौर जितेंद्र सिंह ने बताया कि सायबर सेल द्वारा ठग युवती के खातें में ट्रांसफर किये गये 13 लाख 44 हजार 320/- रूपये खाते में फ्रीज कराए गए। आरोपीगण आधार कार्ड की एडिटिंग कर फर्जी पता अंकित कर बैंक खाते खुलवाते थे। इन आरोपीगणां के नाइजीरियन गैंग से संबंध है। नाइजीरियन गैंग द्वारा ही ई-मेल आइडी हैकिंग का काम किया जाता है।


उस मामले मेंआवेदक राजकुमार पटेल निवासी- न्यू पलासिया इन्दौर के द्वारा विस्कस आॅइल कम्पनी की आॅफिसियल ई-मेल आइडी किसी अनजान व्यक्ति के द्वारा छेडछाड कर एवं दुरूपयोग कर उनके ग्राहको को मेल करने के संबंध में शिकायत की गई थी। विवेचना के दौरान संदिग्ध बैंक खातो की प्राप्त जानकारी में गोरखपुर उ0प्र0 के नाम पते से रजिस्टर्ड होना पाया गया। जिसके नाम पते की तस्दीक हेतु एक टीम गोरखपुर उ0प्र0 रवाना किया गया।

जिसमें एस0टी0एफ0 गोरखपुर के साथ मिलकर आरोपीगणों के आये हुए नाम पते फर्जी पाये जाने से तकनीकी विश्लेषण उपरान्त फरियादी के ईमेल आइडी हैक करने के पश्चात आरोपीगणों द्वारा दिये गये बैंक खाते में 13,44,320 रुपये आॅनलाइन ट्रांसफर होने की जानकारी हासिल की।

आरोपियां सैयदा बेगम जो लगातार जगह बदलकर छका रही थी, को गोरखपुर (उ0प्र0) की महिला पुलिस की मदद से रेकी कर पकडा गया। पूछताछ में उसने अन्य आरोपीगणों के नाम पते बताये गये जिस पर बसकी को पकड़ा गया।


आरोपी आशीष जयसवाल द्वारा बताया गया कि पिछले दो सालों से गोरखपुर के अन्य युवको के साथ मिलकर उ0प्र0 में ही फर्जी नाम पते से विभिन्न बैंकों में खाता खुलवाकर नाइजीरियन गैंग को बैंक खाते की जानकारी दे देते थे, उसके बाद नाइजीरियन गैंग द्वारा बताया जाता था कि अकाउण्ट में रूपये आ गये है, जाकर निकाल लो फिर आरोपी रूपये निकाल कर अपना हिस्सा रखकर नाइजीरियन गैंग को रूपये केश ले जाकर देना बताया गया है। आरोपियां सायदा बेगम द्वारा बताया गया कि उसका आधार कार्ड लेकर उसके साथीगण के द्वारा उसके आधार कार्ड का पता एडिटिंग कर केनरा बैंक एवं अन्य बैंको में आरोपियां के नाम से 06 बैंक खाते खुलवाये थे।

बैंक खातों के पासबुक, एटीएम कार्ड, चेकबुक एवं रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर आरोपीगण परवेज अहमद, ग्यासुद्दीन खान उर्फ सानू एवं आशीष जायसवाल के पास रहते है। आरोपीगणों द्वारा इसी तरह के कई फ्राॅड करना बताया गया है, एवं थाना विभूती खण्ड, लखनउ उ0प्र0 में आरोपी परवेज अहमद, ग्यासुद्दीन खान उर्फ सानू एवं आशीष जायसवाल के विरूध्द धोखाधड़ी के अपराध गिरफ्तार दर्ज होकर जमानत पर है।

आरोपियों से बरामदगी

1- 06 आधार कार्ड जिसमें सैयदा बेगम के दो आधार कार्ड अलग-अलग पते से है।
2- 01 पैन कार्ड
3- 01 ए0टी0एम0
4- 06 मोबाइल
5- रू0-7000/- नगद

उक्त प्रकरण की विवेचना में निरीक्षक अम्बरीश मिश्रा, प्र0आर0 रामपाल, रामप्रकाश बाजपेई, आर0 रमेश भिडे, विशाल महाजन, आशीष शुक्ला, गजेन्द्रसिंह राठौर, विजय बडोदकर, म0आर0 विनिता त्रिपाठी, निशा मिश्रा एवं आर0 चालक रवि की भूमिका रही।

Spread the love

6

इंदौर