Oct 20 2021 / 5:54 PM

इंदौर में रिश्‍वतखोर पुलिस सब इंस्पेक्टर को हुआ चार वर्ष का सश्रम कारावास

इंदौर। इंदौर में एक रिश्‍वतखोर पुलिस सब इंस्पेक्टर को कोर्ट द्वारा दोषी पाकर चार वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है।


विशेष न्यायाधीश (भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम) संजय कुमार गुप्‍ता की कोर्ट ने उक्त सजा सुनाई। जिला अभियोजन अधिकारी संजीव श्रीवास्‍तव ने बताया कि आरोपी अजय पिल्लई पिता शिवराम उम्र 43 वर्ष पदच्‍युत उपनिरीक्षक निवासी- 1487-डी, सुदामा नगर, इंदौर को दोषी पाते हुए भ्रष्‍टाचार निवारण अधि0 1988 की धारा 07 में 04 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000 रूपये अर्थदण्‍ड तथा भ्रष्‍टाचार निवारण अधि0 1988 की धारा 13 1(घ) स‍हपठित धारा 13(2) में 04 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000 रूपये अर्थदण्‍ड एवं 5-5 हजार रूपये के अर्थदण्‍ड की राशि अदा नहीं करने पर 04-04 माह का अतिरिक्‍त सश्रम कारावास से दंडित किया गया। आरोपी द्वारा मूल दोनों सजाऍ साथ–साथ चलेगी । प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी जी0पी0 घाटिया विशेष लोक अभियोजक द्वारा की गई ।

अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि इंदौर के पुलिस थाना सेन्‍ट्रल कोतवाली में पदस्थ उक्त उप-निरीक्षक ने फरियादी विवेक मेहता को दिनांक 27.10.2015 को फोन लगाकर धमकाया कि तुम्‍हारे और रमेश अन्‍ना पुजारी के खिलाफ अंसार अहमद रानीपुरा इंदौर ने 25 लाख रूपये की अमानत में खयानत संबंधी शिकायत की है, जिस कारण आपके बयान लेना है। इसी केस में 9 हजार की रिश्वत लेने के आरोप में उक्त आरोपी सब इंस्पेक्टर को गिरफ्तार किया गया था।

Spread the love

Indore