Nov 29 2022 / 2:58 AM

LIC आईपीओ में 20% FDI को मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी

नई दिल्‍ली । देश के इतिहास के सबसे बड़े आईपीओ को लेकर आज केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. पीएम मोदी की अध्यक्षता मेंकेंद्रीय कैबिनेट ने आज देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी LIC के आईपीओ के लिए ऑटोमैटिक रूट के जरिए 20 फीसदी तक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) को मंजूरी दे दी है. न्यूज एजेंसी पीटीआई को सूत्रों ने जानकारी दी कि एलआईसी के विनिवेश की सुविधा के लिए यह फैसला लिया गया है. एलआईसी देश के इतिहास के अब तक के सबसे बड़े आईपीओ के लिए 13 फरवरी को बाजार नियामक सेबी के पास ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) दाखिल कर चुकी है. इसके मुताबिक सरकार पांच फीसदी हिस्सेदारी की बिक्री करेगी जिसका अनुमानित आकलन करीब 63 हजार करोड़ रुपये है.

बाजार नियामक सेबी के नियामक सेबी के नियमों के मुताबिक आईपीओ में एफपीआई (विदेशी पोर्टफोलियो निवेश) और एफडीआई दोनों की मंजूरी है. विदेशी निवेशक एलआईसी के आईपीओ में पैसे लगाने के इच्छुक हैं लेकिन मौजूदा एफडीआई नीति के तहत एलआईसी में विदेशी निवेश के लिए कोई खास प्रावधान नहीं है. एलआईसी का गठन एलआईसी अधिनियम, 1956 के तहत किया गया है.

मौजूदा एफडीआई नीति के तहत सरकार द्वारा तय किए रास्तों के जरिए सरकारी बैंकों में 20 फीसदी तक विदेशी निवेश हो सकता है तो सरकार ने एलआईसी और इसी प्रकार की कॉरपोरेट बॉडी में में 20 फीसदी तक विदेशी निवेश को मंजूरी देने का फैसला किया. पूंजी जुटाने में आसानी हो, इसके लिए इस प्रकार की एफडी को ऑटोमैटिक रूट के तहत रखा गया है जैसा कि बीमा सेक्टर में है. सरकार ने एलआईसी के विनिवेश को अच्छा रिस्पांस मिले, इस वजह से यह फैसला लिया है.

एलआईसी का आईपीओ अगले महीने मार्च में खुल सकता है. इसके तहत 31.6 करोड़ से अधिक शेयरों को ऑफर किया जा सकता है. कंपनी के कर्मियों और बीमाधारकों को इश्यू प्राइस पर कुछ डिस्काउंट भी ऑफर किया जा सकता है. इंटरनेशनल एक्चुरियल फर्म मिलिमन एडवाइजर्स के मुताबिक एलआईसी की एंबेडेड वैल्यू 30 सितंबर 2021 तक उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक 5.4 लाख करोड़ रुपये की है. सेबी के पास दाखिल पेपर्स से एलआईसी की बाजार पूंजी का खुलासा नहीं हुआ है लेकिन इंडस्ट्री स्टैंडर्ड के मुताबिक यह एंबेडेड वैल्यू का करीब तीन गुना .यानी कि 16 लाख करोड़ रुपये हो सकता है. एंबेडेड वैल्यू का मतलब बीमा कंपनी में कंसालिडेटेड शेयरधारकों की वैल्यू है.

Share with

INDORE