Apr 22 2019 /
9:39 AM

Category: मप्र चुनाव

मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, कमलनाथ होंगे मुख्यमंत्री

भोपाल। हालांकि अभी मध्य प्रदेश की सभी 230 सीटों के अंतिम नतीजे आना शेष है, लेकिन सरकार बनाने के लिए कांग्रेस ने खुद को सबसे बड़ी विजयी पार्टी बताते हुए दावा पेश कर दिया हैं। इस हेतु आज रा

इंदौर में बड़े भैया परिवार से किसी के विधायक ना बनने का मिथक भी टूटा

इंदौर। इस बार विस चुनाव के नतीजे इंदौर में भी कई मायनों में रोचक और चौंकाने वाले रहे। इसमें सबसे अधिक चर्चा क्षेत्र क्रमांक एक को लेकर हुई। कांग्रेस प्रत्याशी संजय शुक्ला की जीत को ले

मेंदोला मालिनी की हैट्रिक, सुदर्शन चूके, कांग्रेस की सरकार बनने पर सिलावट, पटवारी मंत्री की दौड़ में

इंदौर में भाजपा को 3 सीट का नुकसान

इंदौर। इंदौर की 9 विस सीटों का परिदृश्य स्पष्ट हो चुका है। इनमें से 5 सीटें भारतीय जनता पार्टी और 4 कांग्रेस को मिली है। पि

इंदौर में सबसे प्रतिष्ठित सीट पर कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र आकाश जीते

इंदौर। इंदौर जिले की सबसे प्रतिष्ठा पूर्ण क्षेत्र क्रमांक 3 की सीट से भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र आकाश विजयवर्गीय जीत गए हैं हालांकि उनकी जीत की

इंदौर में 3 सीटों पर भारी उलटफेर, कांग्रेसी आगे हो गए

इंदौर। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव की मतगणना के दौरान इंदौर की 9 सीटों पर भी मतगणना जारी है। इसमें 3 सीटों पर दोपहर करीब 3:30 बजे तक फिर बड़ा फेरबदल हुआ है। क्षेत्र क्रमांक 5 में जहां भाजपा

मायावती ने भाजपा को समर्थन की बात को नकारा

भोपाल। विस चुनाव के आ रहे नतीजों से यह स्पष्ट हो रहा है मध्यप्रदेश व राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी व निर्दलीय विधायक महत्वपूर्ण रोल अदा करेंगे। इसे देखते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने

इंदौर में भाजपा को 6 कांग्रेस को 3 सीटें मिलने के आसार

इंदौर। जिस ढंग से नतीजे सामने आ रहे है उसमें इंदौर में भारतीय जनता पार्टी को 6 और कांग्रेस को 3 सीटें मिलने की स्थिति बन रही है। अभी तक जो रुझान सामने आए हैं उसके अनुसार इंदौर शहर की पांच

सरकार के लिए मध्यप्रदेश में कांग्रेस-भाजपा दोनों निर्दलीय के संपर्क में

भोपाल। जिस ढंग से मध्यप्रदेश में विस चुनाव के रुझान आ रहे हैं त्रिशंकु सरकार बनते नजर आ रही हैं, उसे देखते हुए कांग्रेस व भाजपा दोनों दल के वरिष्ठ नेताओं ने जीत रहे निर्दलीय व बसपा सपा के