Mar 24 2019 /
3:09 PM

इंदौर में लॉटरी खुलने के नाम पर लाखों की ठगी में बिलासपुर का फरार आरोपी गिरफ्तार

इंदौर। क्राइम ब्रांच ने इंदौर में लॉटरी खुलने के नाम पर लाखों की ठगी में अंतरप्रांतीय गिरोह के बिलासपुर के फरार आरोपी को गिरफ्तार किया है। वह लोगों को टेलीकॉम कंपनी का कर्मचारी बनकर फोन, लॉटरी खुलने का झूठा प्रलोभन देकर ठगता था। आरोपी का नाम मोचन साहू उम्र 33 वर्ष निवासी ग्राम टेड़ाढोरा जिला मुंगेली बिलासपुर है। ASP क्राइम अमरेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपी ठग गिरोह को बैंक खाता नंबर उपलब्ध कराता था और ठगी की राशि में से भारी कमीशन लेता था। उसे छत्तीसगढ़ से दबिश देकर गिरफ्तार किया गया।

उन्होंने बताया कि विभिन्न मोबाईल कम्पनी के कर्मचारी/अधिकारी बनकर आम लोगों को एसएमएस कर तथा फोन कॉल के जरिये लुभावने ऑफर देकर पैसे अपने अकाउंट में डलवाने की शिकायतें लगातार प्राप्त हो रही थी। ऐसी ही शिकायत मुकेश कोरी ने की। जांच में पता चला कि गिरोह के हुकुम यादव, मोचन साहू, कैकती यादव व अन्य के द्वारा यह जालसाजी की जा रही है। मुखबिर की सूचना पर छत्तीसगढ़ से मोचन साहू को पकड़ा गया।

आरोपी मोचन साहू ने पूछताछ में पुलिस टीम को बताया कि वह एक संगठित गिरोह का सदस्य रहा है जो तमाम राज्यो में टेलीकॉम कंपनियों के फर्जी अधिकारी बनकर लोगों को फोन करके उन्हें लॉटरी खुलने का झूठा प्रलोभन देते थे बाद लॉटरी में जीती हुई राशि प्राप्त करने हेतु लोगों से टैक्स, प्रोसेसिंग फीस, आदि के नाम पर मोटी रकम स्वयं के खातों में जमा कराकर आर्थिक ठगी करते थे। आरोपी ने बताया कि लोगों से ठगी गई राशि को गिरोह के सदस्य आपस में बांट लेते थे।

आरोपी ने खुलासा किया कि वह गिरोह के सदस्यों को, ठगी की राशि जमा कराने के लिये स्वयं का निजी बचत खाता उपयोग करने हेतु उपलबध कराता था जिसमें कई लोगों द्वारा इस प्रकार लॉटरी खुलने के नाम पर धोखाधड़ी से पैसे जमा कराये गये हैं। आरोपी इस प्रकार की ठगी की राशि के लेन देन के लिये खुद के खाते को उपयोग कराने के एवज में कमीशन भी लेता था। गिरोह के 2 आरोपी हुकुम सिंह यादव एवं हरिओम यादव पूर्व में पकड़े जा चुके हैं।

ऐसे करते हैं धोखाधडी

यह गिरोह टेलीकॉम कंपनी की ओर से लाखों रुपये का लकी ड्रा खुलने का लोगों को फर्जी मैसेज करते हैं उसके बाद जिन लोगों को मैसेज भेजा जाता था उन्हें संबंधित टेलीकाम कंपनी का कर्मचारी बनकर ये लोग फोन करते थे तथा लकी ड्रा में जीती गई राशि को पाने हेतु टैक्स, प्रोसेसिंग फीस, बैंक खाता की लिमिट बढ़ाने जैसे प्रलोभन देकर, हजारों रुपये खातों में जमा करा लेते थे। ये ठगी करने वाले गिरोह मध्यप्रदेश के कई शहरो इंदौर, नीमच, सागर आदि के अलावा अन्य प्रदेशो जैसे राजस्थान,छत्तीगढ, उत्तरप्रदेश के भी कई शहरों के लोगों को अपना शिकार बनाते हैं।

Spread the love

इंदौर