इंदौर के देवी अहिल्या विवि के स्कूल ऑफ कॉमर्स के छात्र प्रोफ़ेसरों की आपसी रंजिश में साज़िश के हुए शिकार, कांग्रेस का आरोप

इंदौर। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि इंदौर के देवी अहिल्या विवि के स्कूल ऑफ कॉमर्स के छात्र प्रोफ़ेसरों की आपसी रंजिश में साज़िश के शिकार हुए है। चर्चित मिर्ची कॉंड में एक-दूसरे को निपटाने के लिए बेगुनाह पॉंच छात्रों को फँसाया गया।


मप्र कांग्रेस के सचिव राकेश सिंह यादव ने उक्त आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा से जुड़े प्रोफ़ेसरों ने यह साज़िश रची।


उन्होंने बताया कि कुछ दिनों से बहुचर्चित मिर्ची कॉंड में डीएवीवी के स्कूल ऑफ़ कॉमर्स के 6 छात्रों को लड़कियों के टॉयलेट में मिर्ची स्प्रे करने का आरोप लगाकर 15 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया गया था। इस मिर्ची कॉंड की जॉंच के लिए बक़ायदा डीएवीवी में अनुशासन समिति ने जॉंच करके 6 छात्रों को सबुतो के आधार जिसमें शिकायत एंव सीसीटीवी फ़ुटेज को देखकर निर्णय लेकर 15 दिन के लिए सस्पेंड करने की सजा सुना कर अपराधी सिद्ध किया था।

जबकि इस मिर्ची कॉंड की हक़ीक़त कुछ अलग ही हैं। यहां के भाजपा की मानसिकता वाले 5 प्रोफेसरों ने मिलकर 5 निर्दोष छात्रों को फंसाकर एचओडी प्रीति सिंह को हटाने की साज़िश को अंजाम दिया। इनकी नियुक्ति भी कॉंन्ट्रेक्ट के द्वारा हैं जो कि 56 दिन के बाद समाप्त हो जाता हैं लेकिन पिछले नौ साल से अवैध रूप से इनका कॉंन्ट्रेक्ट रिन्यू किया जाता रहा हैं, ये भी जॉंच का विषय हैं। जबकि अन्य प्रोफ़ेसरों को 6 माह मतलब 180 दिनों के कॉन्ट्रैक्ट में रखा जाता हैं। ये सारा खेल भाजपा के नेताओं के इशारे पर खेला जा रहा हैं।

इस विश्वविद्यालय में छात्रो पर आरोप लगाकर एक दुसरे को निपटाने की राजनीति चरम पर हैं।


ये पॉंचो छात्र बलविंदर रूपाना, रोशन वैघ, यश डाबरे, विक्रम डॉंगी,अंकुश सागोरे निर्दोष हैं सारे मामले में निष्पक्ष जॉंच करके दोषी डीएवीवी के प्रोफ़ेसरों एंव कर्मचारियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही के लिए कुलपति,राज्यपाल एंव मुख्यमंत्री जी को समस्त जानकारी दस्तावेज़ों सहित दी गई हैं।

Spread the love

5

इंदौर