Jun 21 2019 /
5:38 AM

साइबर गुरु कपूर के इंदौर ADG बनने से भय्यू महाराज मामले की जांच में आ सकता है नया ट्विस्ट

इंदौर। चर्चित भय्यू महाराज संदिग्ध मौत मामले में वैसे तो पुलिस तमाम बिंदुओं पर जांच कर ही रही है लेकिन इस केस की जांच में कुछ नया ट्वीस्ट आने की संभावना इसलिए बढ़ गई है क्योंकि साइबर गुरु के रूप में विख्यात सीनियर आईपीएस अधिकारी वरुण कपूर इंदौर एडीजी के रूप में पदस्थ हो गए हैं।
भय्यू महाराज की संदिग्ध मौत के पूरे केस पर नजर डाली जाए तो उसमें अनेक अनसुलझे बिंदु ऐसे हैं जिन्हें साइबर एक्सपर्ट ही आसानी से सुलझा सकता है।

चूंकि जिन बिंदुओं पर इस केस में सवाल उठाए जा रहे हैं उनमें से अनेक बिंदु ऐसे हैं जिनकी सत्यता साइबर तरीके से सघन छानबीन के आधार पर ही की जा सकती है।

उदाहरण के लिए शंका के घेरे में आए लोगों की घटना के कुछ दिन पहले और बाद में आपस में कनेक्टिविटी, टावर लोकेशन, बातचीत व इस तरह की अन्य कई संदिग्ध गतिविधियों का पता लगाना तकनीकी आधार पर साइबर एक्सपर्ट के बूते की ही बात है।

चूँकि एडीजी कपूर को इसमें वरदहस्त प्राप्त है, ऐसे में यह उम्मीद की जा रही है कि वे इस केस की गहन छानबीन के आधार पर उसके कई अनसुलझे तथ्यों का पता लगा सकते हैं। इधर आईपीएस अगम जैन द्वारा की जा रही इस मामले की पुलिस की जांच लगभग पूरी होने की खबर है।

संदेही युवती के बाद नए सिरे से हुई जांच

यूं तो इस केस में कई तरह के सवाल उठाए जाते रहे, लेकिन एक युवती द्वारा कथित तौर पर भय्यू महाराज को ब्लैक मेलिंग किए जाने की बात सामने आने के बाद पुलिस ने नए सिरे से जांच की। हालांकि अभी तक इस बारे में कोई ठोस तथ्य पुलिस के हाथ नहीं लगे है।

गौरतलब है कि इस मामले को लेकर महाराज के गुरु भक्त यह आशंका जताते हुए की मामला आत्महत्या का नही, हत्या का है, पूरे मामले की सीबीआई जांच कराए जाने की मांग कई दिनों से कर रहे हैं। महाराज की करोड़ों की प्रॉपर्टी के अनेक विवाद भी चर्चा में रहे हैं।

Spread the love

इंदौर