आमिर खान के विरुद्ध धार्मिक भावनाएं बहकाने पर गुरुवार को फैसला

इंदौर। विवादित फ़िल्म पीके में हिन्दू समुदाय की धार्मिक भावनाएं भड़काने को लेकर दायर रिवीजन पर गुरुवार 5 जुलाई को ADJ पीसी आर्य की कोर्ट आदेश करेगी।
यह रिवीजन लालजी गौर द्वारा अधिवक्ता मुकेश देवल के माध्यम से लगाई गई हैं। इसमे आमिर के अलावा फ़िल्म निर्माता राजू हिरानी व अन्य को भी पक्षकार बनाया गया है।
इस फ़िल्म को लेकर पूर्व में धारा 156-3 के तहत परिवाद निचली कोर्ट में लगाया गया था।
यह खारिज़ होने पर उक्त रिवीजन लगाई गई है। एडवोकेट देवल ने बताया कि हमने अपने तर्क में कहा कि परिवाद में लगाये आरोप को लेकर निचली कोर्ट के समक्ष सीडी पेश की थी।
लेकिन उसे देखे बिना ओर अन्य तथ्यों को अनदेखा करते हुए उनका परिवाद खारिज़ कर दिया गया।

अतः रिवीजन स्वीकार की जाए। इस पर बहस गत दिनों पूरी हो गयी थी। आदेश के लिए कोर्ट ने 5 जुलाई तय की है।

आमिर को बुलाने से इनकार किया था इसी रिवीजन की सुनवाई के दौरान रिवीजनकर्ता ने आवेदन देकर आमिर की ओर से पेश वकालतनामे व अन्य दस्तावेज में अलग अलग साइन होने पर तज़दीक के लिए आमिर को बुलाने की गुहार की थी।
लेकिन कोर्ट ने यह आवेदन अस्वीकार कर दिया था।

Spread the love

10

इंदौर