Oct 21 2019 /
12:25 AM

रीगल टाकीज की जमीन पर कब्जा लेने के लिए नगर निगम की राह आसान, टाकीज प्रबंधन का आवेदन हाई कोर्ट द्वारा खारिज

इंदौर। इंदौर के करीब 85 वर्ष पुराने रीगल टॉकिज की 23947 स्क्वेयर फीट जमीन पर कब्जा लेने के लिए नगर निगम की राह आसान हो गई हैं। इस मामले में टाकीज प्रबंधन का आवेदन हाई कोर्ट द्वारा खारिज कर दिया गया है।

जस्टिस वीरेंदर सिंह की बेंच ने यह आवेदन खारिज़ किया। नगर निगम की ओर से सीनियर एडवोकेट एके सेठी, ऋषि तिवारी आदि ने तक रखे। टॉकिज प्रबंधन की हाई कोर्ट में 2012 से विचाराधीन प्रथम अपील में उक्त आवेदन लगाया गया था। उल्लेखनीय हैं कि गत दिनों एसडीएम कोर्ट ने नगर निगम के पक्ष में फैसला देते हुए 48 घंटे में कब्जा लेने के आदेश दिए थे।

इस आदेश के बाद टॉकिज प्रबंधन ने 2012 से विचाराधीन प्रथम अपील की सुनवाई के लिए मेंशन लिया था, जिसमे यह आवेदन लगाया था। सीनियर एडवोकेट एके सेठी के अनुसार यह आवेदन खारिज होने ज बाद अब नगर निगम द्वारा जमीन पर कब्जे की राह आसान हो गई है।
उल्लेखनीय है कि होलकर शासन काल में 1930 में मनोरंजन केंद्र के लिए यह जमीन दी थी जिसके बाद 1934 में यहां रीगल टॉकीज बनकर तैयार हुआ।

इससे पहले निगम ने 2008 में टॉकीज की लीज निरस्त कर उस पर कब्जा ले लिया था। बाद में मामला हाई कोर्ट गया और वहां से स्टे मिलने के बाद टॉकीज दोबारा शुरू हो सका था। 2017 में निगम ने सड़क चौड़ीकरण के लिए टॉकीज की कुछ जमीन ली थी और नई बाउंड्रीवॉल बनवाई थी। नगर निगम वहां पर मल्टीलेवल पार्किंग बनाने की योजना बना रहा है।

Spread the love

इंदौर