Aug 21 2019 /
11:25 AM

इंदौर में 10 लाख में हत्या की सुपारी लेने वाले बदमाश गिरफ्तार, डेढ़ लाख एडवांस भी ले लिए थे

इंदौर। इंदौर में 10 लाख में हत्या की सुपारी लेने वाले छह बदमाश क्राइम ब्रांच द्वारा गिरफ्तार किये गए हैं। इन्होंने एडवांस बतौर डेढ़ लाख रुपए ले भी लिए थे।
-आरोपियों से एक देशी पिस्टल, 01 कारतूस, देशी कट्टा, लोहे का फालिया, धारदार तलवार, बड़ा छुरा, लठ्ठ आदि हथियार बरामद

एसएसपी रुचिवर्धन मिश्रा व एएसपी अमरेंद्र सिंह ने बताया कि प्रापर्टी कारोबारी ने अपने भाई की हत्या का बदला लेने के लिए यह सुपारी दी थी। पकड़े गये आरोपियों में तीन आरोपी पूर्व मे भी हत्याएं कर चुके हैं।

सुपारी के लिये दी गई एडवांस राशि में से आरोपियों के कब्जे से 29800/- रुपये बरामद हो चुके हैं।
मुखबिर की सूचना पर कम्पेल रोड पर गोपाल किसान सेवा केन्द्र पेट्रोल पंप के पीछे घेराबंदी की गई जिसमें वहां मौजूद लोग पुलिस को देखकर भागने का प्रयास करने लगे जिन्हें पीछा कर धरदबोचा।

इनके नाम अबला उर्फ अब्दुल हुसेन पिता मो.सफी उम्र 45 साल निवासी, 552 ई सेक्टर चंदन नगर इंदौर, असलम पिता अलीयार खान उम्र 40 साल निवासी 71 ई-सेक्टर नाले पार चंदन नगर इंदौर, रऊफ पिता बाबू खाँ उम्र 41 साल निवासी, बरगादी मस्जिद के पास डाक्टर कालोनी खजराना इंदौर, मुख्तियार उर्फ फटी पिता मो0 यूसुफ उम्र 42 साल निवासी – ई सेक्टर नाले पार चंदन नगर इंदौर, जितेन्द्र यादव पिता जयनारायण यादव उम्र 40 साल निवासी ग्राम बिहाड़िया देवगुराड़िया इंदौर एवं अमजद पिता अनवर खान उम्र 35 साल निवासी 275 चन्दन नगर इन्दौर है। तलाशी में आरोपियों के कब्जे से एक पिस्टल मय जिंदा कारतूस, एक देशी कट्टा मिला, एक लोहे का फालिया, एक तलवार, धारधार छुरा तथा एक लठ्ठ बरामद हुआ।

प्रांरभिक पूछताछ में ज्ञात हुआ कि उन्होंने पेट्रोल पंप लूटने की योजना बनाई थी उसी वारदात को अंजाम देने के लिये वे सभी संगनमत होकर पेट्रोल पंप पर डकैती डालने के लिये एकत्रित होकर मौके का इंतजार कर रहे थे।

पूछताछ में विदित हुआ कि आरोपी हबला उर्फ अब्दुल हुसैन निवासी चंदननगर से आरोपी अमजद ने संपर्क किया था जिसने हबला को जितेन्द्र यादव निवासी ग्राम बिहड़िया थाना खुडैल से मिलवाया था।

आरोपी जितेन्द्र ने हबला तथा अमजद को बताया कि उसके भाई दीपक यादव की दिनांक 13/05/2017 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जिसका बदला वह हत्यारों को मारकर लेना चाहता है।

हत्यारे आरेापी जेल मे निरूद्ध होने के कारण आरोपी जितेन्द्र अपने भाई की हत्या का बदला उससे नहीं ले पा रहा था इसलिये बदले की नियत से हत्यारों को मारने के लिये आरोपी जितेन्द्र पटेल के कहने पर आरोपी हबला तथा अमजद ने हामी भर दी थी जिसमें बतौर सुपारी 10 लाख रुपये का सौदा तय हुआ था। आरोपी जितेन्द्र ने आरोपी हबला को एक पिस्टल कारतूस सहित एक देशी कट्टा भी उपलब्ध कराया था।

गोली मारो या एक्सीडेंट कर दो
पूछताछ में यह भी खुलासा हुआ कि बदले में हत्या गोली मार के यदि नहीं कर पाये तो वाहन से एक्सीडेंट करके मारा जायेगा जिसमें सुपारी राशि 10 लाख से घटकर 05 लाख रूपये होगी।

हत्या की सुपारी के दौरान यह भी तय हुआ था कि पुलिस द्वारायदि आरोपीगण पकड़े जाते हैं तो भी कोर्ट से जमानत कराने तथा विचारण के दौरान का सारा खर्चा आरेापी जितेन्द्र ही वहन करेगा।

आरोपी जितेन्द्र ने आरेापी हबला तथा अमजद को 1.5 लाख रुपये एडवासं दे दिये थे जिसके बाद लगातार आरोपियों द्वारा रैकी की जाने लगी थी। आरोपी हबला ने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया कि उसने अपना गिरोह बनाया जिसमें उसने अपने पूर्व परिचित थाना चंदननगर के रिकार्डशुदा बदमाशों असलम, मुख्तैयार उर्फ फटी तथा रउफ को शामिल किया।

आरोपी हबला, की गिरोह का सदस्य रउफ ड्रायवरी करता था जोकि गिरोह के ही सदस्य असलम का रिश्ते में साला भी है।

आरोपी असलम ने आरेपी रउफ को 10 हजार रुपये देकर एक्सीडेंट करके हत्या करने के उद्देश्य से एक वाहन मंगवाया था।
आरोपी हबला ने आरोपी जितेन्द्र से प्राप्त किये गये 1.5 लाख रुपये गिरोह के सभी साथीदारानों को बांट दिए थे।

Spread the love

इंदौर