Jan 23 2019 /
11:52 PM

सरकारी डॉक्टर द्वारा निजी अस्पताल में ऑपरेशन पर इंदौर के मेडिकेयर हॉस्पिटल का पंजीयन निरस्ती का नोटिस

इंदौर। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने 4/5, रविन्द्र नगर ओल्ड पलासिया, इंदौर स्थित मेडिकेयर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर का पंजीयन निरस्त करने का नोटिस दिया है। सरकारी अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर के निजी अस्पताल में ऑपरेशन करने पर यह कार्रवाई की गई है। (देखें आदेश की कॉपी)।


नियमानुसार ऐसा करने के पहले किसी भी अस्पताल को संस्था प्रमुख से अनुमति लेना अनिवार्य है। एम वाय अस्पताल के एक डॉक्टर द्वारा मेडी केयर अस्पताल में एक युवती का ऑपरेशन किए जाने की शिकायत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने उक्त नोटिस दिया हैं।

जानकारी के मुताबिक पिछले साल मई 2017 में देवास की 21 वर्षीय दिव्या अग्रवाल नामक युवती की एम वाय अस्पताल के डॉक्टर आरिफ अकील अंसारी ने सर्जरी की थी।

इस सर्जरी को करने के पूर्व उन्होंने एमजीएम मेडिकल कॉलेज के डीन से आवश्यक अनुमति प्राप्त नहीं की थी जबकि नियम अनुसार कोई भी नर्सिंग होम, सरकारी डॉक्टर की बिना अनुमति के सेवाएं नहीं ले सकता है।

दिव्या को 30 मई 2017 को ऑपरेशन के लिए मेडिकेयर अस्पताल में भर्ती किया गया था। 31 मई को सुबह 7.30 बजे एमवायएच में पदस्थ डॉ. आरिफ अंसारी ने ऑपरेशन किया था।

इतना ही नहीं एमवायएच के रिकार्ड में भी 25 मई को युवती का पंजीयन हुआ था। इसके बावजूद निजी अस्पताल ड्यूटी समय में ऑपरेशन किया गया।

इस तरह मेडिकेयर अस्पताल ने अधिनियम 1973 की धारा अट्ठारह का उल्लंघन किया है। इसी चलते उसका लाइसेंस निरस्त किया गया। गौरतलब है कि डॉक्टर अंसारी द्वारा ऑपरेशन किए जाने के बाद युवती की स्थिति और बिगड़ गई थी।

परिजन ने इसकी शिकायत डीआईजी सहित स्वास्थ्य विभाग में भी की थी बाद में युवती को इलाज के लिए कोयंबटूर ले जाया गया था अभी से पुलिस भी मामले की जांच कर रही थी।

Spread the love

इंदौर