Jun 20 2019 /
11:10 AM

इंदौर के पुलिस सूबेदार अरुण सिंह मप्र में सियासत का मुद्दा बने, शिवराज के ट्विटर पर कांग्रेस का पलटवार

इंदौर। इंदौर के ट्रैफिक पुलिस में पदस्थ सूबेदार अरुण सिंह मप्र में सियासत का मुद्दा बन गए है। इसे लेकर शिवराज के ट्विटर पर कांग्रेस द्वारा पलटवार किया गया है।

अरुण सिंह को लेकर पूर्व सीएम शिवराज ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि ‘मैने सुना है कमलनाथ सरकार ने इस निडर पुलिस अफसर को अपना कर्तव्य निभाने के लिए और कांग्रेस की गुंडागर्दी को ना मानने पर लाइन अटैच करवा दिया गया है। वाह राहुल गांधी जी, वाह, क्या यही कांग्रेस का कानून के प्रति सम्मान है?’

कांग्रेस का पलटवार

शिवराज के इस टि्वटर कमैंट्स पर मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने पलटवार करते हुए जवाब दिया कि ‘पता नहीं शिवराजजी का सलाहकार कौन है, हमेशा झूठे आरोप लगाते है। कह रहे है कि इंदौर में पुलिस सूबेदार अरुण सिंह को कमलनाथ सरकार ने लाइन अटैच करवा दिया है।ना तो वो लाइन अटैच हुए है,ना उन्हें कोई सज़ा मिली है,उन्हें तो उनके स्वास्थ्य व तनाव को देखते हुए प्रशासन ने प्रशिक्षण पर भेजा है।

यह है मामला

इंदौर के मध्य राजवाड़ा क्षेत्र का एक वीडियो सोशल मीडिया पर कल वायरल हुआ था, जिसमें ट्रैफिक पुलिस पश्चिम क्षेत्र में पदस्थ सूबेदार अरुण सिंह यह कहते दिखाई दे रहे थे कि मोबाइल पर बात करते एक युवक को पकड़े जाने पर कांग्रेस के एक नेता के नाम पर उन पर कार्रवाई ना करने का दबाव डाला जा रहा था।

कैमरे के सामने उन्होंने स्पष्ट कहा कि ‘मैं सूबेदार अरुण सिंह, थाना ट्रैफिक पश्चिम, चाहे बाला बच्चन की धमकी दे, चालानी कार्रवाई करूंगा।’ यह मामला वरिष्ठ अफसरों की जानकारी में आने के बाद पुलिस प्रोटोकॉल का पालन ना करने पर उक्त सूबेदार को फील्ड से हटा दिया गया।

Spread the love

इंदौर