Jan 24 2019 /
11:48 AM

इंदौर के नदी नालों की सफाई को लेकर मंत्री पटवारी के घर के बाहर अनिश्चित धरने पर बैठे कोडवानी

इंदौर। इंदौर के नदी नालों की सफाई को लेकर सोमवार सुबह से सामाजिक कार्यकर्ता किशोर कोडवानी मप्र के उच्च शिक्षा मंत्री मंत्री जीतू पटवारी के इंदौर के बिजलपुर स्थित घर के बाहर अनिश्चित धरने पर बैठ गए।

उन्होंने बताया कि शहर के 62 तालाब, 10 नदियों के जीर्णोद्धार के पायलेट प्रोजेक्ट 30 कि मी नदी सफाई 31 मार्च तक पूर्ण कराने हेतू यह आंदोलन शुरू किया है।

उन्होंने बताया कि नेशनल ग्रीन टि्ब्युनल ने 2014 से तीन बार मौका मुआयन करते हुऐ 60 से अधिक अन्तरिम आदेश पारित किये। इन्दौर नगर पालिका ने 324 करोड़ रुपये सीवरेज प्रोजेक्ट में खर्च कर दिए। इसके बाद 77 करोड रुपए पुन: सिहंस्थ नाला टेपिंग योजना पर 2016 में और खर्च कर दिये।

इसके बाद भी असफलता स्वयं बयां कर रही हैं। निगम 8 वर्षो से नदी सफाई पर करोड़ों खर्च करती रही है। चालू वित्तीय वर्ष में 15 करोड रु नदी सफाई, 30 करोड पुलों व जाली लगाने और 35 करोड सौन्दर्यीकरण पर खर्च कर दिये है।

कोडवानी ने बताया कि एनजीटी आदेश अनुसार आजाद नगर से कृष्णपुरा कान्ह नदी, पिपलिया पाला से बद्रीबाग फतनखेड़ी नदी, बिजलपुर से रामबाग सरस्वती नदी 30 किलोमीटर डिसिल्टीग कार्य पूर्ण करना है। 15 लाख प्रति किलोमीटर खर्च मान से 30 किलोमीटर नदी सफाई के लिए लगभग 5 करोड रु की आवश्यकता है।
कोडवानी ने मंत्री जीतू पटवारी से मांग की है कि इंदौर नगर पालिका निगम द्वारा गत 10 वर्षों से नदी कार्य व सीवरेज प्रोजेक्ट पर लगभग 500 करोड़ रुपए जो खर्च किए गए हैं,

उसके परिणामों की स्वतंत्र जांच कराई जाए, साथ ही कान्ह, फतनखेड़ी, सरस्वती नदी 30 किलोमीटर पायलट प्रोजेक्ट डिसिल्टिंग नदी कार्य की जिम्मेदारी डब्ल्यू आर डी (जल संसाधन विभाग) को सौंपी जाये। पूर्ववत जिलाधीश की अध्यक्षता में व किशोर कोडवानी की निगरानी में 31 मार्च तक कार्य संपादन आदेश दिए जाएं।

Spread the love

इंदौर