Sep 23 2019 /
10:24 AM

बचपन से ही सीख लिया था अवैध हथियार बनाना, 15 से 20 हजार में बेचता था, 6 कट्टे-रिवाल्वर सहित इंदौर में गिरफ्तार

इंदौर। क्राइम ब्रांच की टीम ने एक ऐसे सिकलीगर युवक को पकड़ा है जिसने बचपन में ही अवैध हथियार बनाना सीख लिया था। इन दिनों वह 15 से 20 हजार में अवैध कट्टे, रिवाल्वर बनाकर बेच रहा था। उसके पास से 5 देसी कट्टे व एक रिवाल्वर और एक कारतूस बरामद किए गए हैं।

वह ताला चाबी बनाने की आड़ में अवैध हथियारों का कारोबार कर रहा था।

पकड़े गए युवक का नाम अर्जुन पिता मगनसिंह निवासी हुण्डी खोदरी पलसुद जिला बड़वानी है। एडिशनल एसपी क्राइम अमरेंद्र सिंह ने बताया कि शहर में अवैध हथियारों की खरीद फरोख्त में पूर्व में पकड़े गये आरोपियों से पूछताछ में यह बात प्रकाश में आई थी कि इंदौर के सीमावर्ती जिलों धार, बड़वानी, खरगौन, खण्डवा देवास आदि जिलों के सिकलीगरों का संपर्क अन्य प्रदेशों से भी है जो कि मंहगे दामों में अवैध हथियार की खरीद फरोख्त कर देश के विभिन्न राज्यों में तस्करी करते हैं, लेकिन इनको हथियार डिलेवरी हेतु सिकलीगरों को इंदौर तक आना पड़ता है जहां से आवागमन सुगम होने के नाते ये तस्कर अपने गंतव्य की ओर रवाना होते हैं।

इस पर घेराबंदी कर इंदौर के कनाड़िया क्षेत्र के संचार नगर चौराहे से सिकलीगर अर्जुन को धरदबोचा।तलाशी लेने पर उसके कब्जे से 05 देशी कट्टे व 01 रिवाल्वर सहित कुल 06 अवैध हथियार एवं 01 जिंदा कारतूस बरामद हुये हैं।
आरोपी अर्जुन ने पूछताछ में बताया कि वह कक्षा 9वीं तक पढ़ा लिखा है।

बचपन से ही पिस्टलो एवं हथियारो को बनाने का काम जानता है। पिछले 02 वर्षों से हथियारों को बनाकर तस्करो के जरिये खरीद फरोख्त कर मोटी कमाई कर रहा था।आरोपी लगभग प्रति हथियार 15 से 20 हजार में सौदा कर बेचता था।

Spread the love

इंदौर