Apr 22 2019 /
10:13 AM

इंदौर में पूर्व आईएएस मुनव्वर की डॉक्टर पत्नी की नृशंस हत्या करने वाले नौकर को आजीवन कारावास

मात्र 5 हजार उधार न देने पर मार डाला था
इंदौर
। इंदौर में लगभग 4 साल पहले पूर्व आईएएस ऑफिसर डी वाय मुनव्वर की पत्नी डॉ. फे मुनव्वर (75) की नृशंस हत्या के आरोपी नौकर को सोमवार को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश बीके पालोदा की कोर्ट ने आजीवन कारावास व अर्थदंड की सज़ा सुनाई।
सज़ा पाने वाले आरोपी का नाम सूरजनगर इंदौर निवासी हृदयेश मालवीय पिता रामनारायण (23) है। प्रभारी उप संचालक अभियोजन मोहम्मद अकरम शेख ने बताया कि अभियोजन पक्ष की ओर से 25 गवाहों के कथन कराए गए। DNA रिपोर्ट में भी आरोपी के हत्या में शामिल होने की पुष्टि हुई थी.

यह थी घटना

घटना 22 मार्च 2015 की थी। खजराना के पास सूरजनगर में रहने वाला हृदयेश रामनारायण (23) दो साल पहले 57-58 मनीष पूरी में रहने वाले रिटायर्ड आईएएस मुनव्वर के यहां नौकर था और वहीं सर्वेंट क्वाटर में रहता था। एक साल पहले शराब की लत के कारण उनकी पत्नी डॉ. फे ने उसे निकाल दिया था। घटना वाली शाम वह डॉ. फे से पांच हजार रु. उधार मांगने आया था मगर उन्होंने उसे मना कर दिया। उसी रात आठ बजे वह शराब के नशे में फिर आया और रुपए मांगने लगा।

मटन काटने के चाकू से गोदा

डॉ. फे ने उसे घर से जाने को कहा तो हृदयेश ने उन्हें धक्का दे दिया जिससे वे बेहोश हो गईं। इसके बाद उसने दरवाजे के पास रखे मटन काटने के चाकू से उनका गला रेत दिया। इसके बाद हृदयेश ने उनकी लाश को उन्हीं की नैनो कार में डाला और मनीषपुरी के पीछे के रास्ते से बायपास पहुंच गया। सिल्वर स्प्रिंग टाउनशिप के पास नाले के एक गड्ढे में लाश को फेंकने के बाद वह वापस लौट रहा था। स्कीम 140 के पास कार का पेट्रोल खत्म हो गया। कार वहीं छोड़कर वह डॉ. फे के घर वापस आया क्योंकि उसकी मोटरसाइकिल वहीं खड़ी थी। बाइक उठाने से पहले उसने चार-पांच बाल्टियों से फर्श पर पड़ा खून साफ किया और घर में 1 लाख 48 हजार नकद, 5 सोने की चूड़ी, कंगन, अंगूठी आदि चुराकर भाग गया।

दंपती के अलावा कोई नहीं रहता था घर में

मुनव्वर दंपती की दो बेटियां यास्मिन और शाइना डॉक्टर हैं जो ऑस्ट्रेलिया में रहती हैं। घर मे 80 साल के रिटा. आईएएस डी वाय मुनव्वर व पत्नी डॉ फे ही रहते थे। घटना के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसके द्वारा छुपाए गए एक लाख 20 हजार रुपए नगद व सोने-चांदी के जेवर बरामद कर लिए थे। आरोपी ने पूछताछ में स्वीकार किया था कि वह दो दिन से मुनव्वर के घर के आसपास चक्कर काट रहा था।

घटना वाले दिन दोपहर वह घर में गया लेकिन बात नहीं बनी। उसे मालूम था कि रात 8 बजे घर में पति-पत्नी ही रहते हैं। डॉ फे से पैसे मांगे, तो उन्होंने इंकार कर दिया। विवाद हुआ और उसने हत्या कर दी। सीनियर सिटीजन कि इस हत्या के मामले को सरकार द्वारा गंभीर और चिन्हित प्रकरण में शामिल किया गया था।

Spread the love

इंदौर