महाराष्ट्र ब्रा.सह. बैंक के जमाकर्ताओं की आस जगी

इंदौर। कई सालों से अपनी जीवन भर की जमापूंजी की बांट जोह रहे लगभग 1260 जमाकर्ताओं के लिए राहत की खबर हैं। इनके जमा पैसे मिलने की कुछ आस जगी है।

इस वापसी की आस में इनमें से लगभग आधे तो स्वर्ग सिधार चुके हैं। लगभग 13 साल पहले
तत्कालीन बैंक संचालको द्वारा किये गये कथित भ्रष्टाचार और घोटालो की वजह से दिवालिया हो चुकी 80 साल पुरानी परिसमापनाधीन महाराष्ट् ब्रा. बैंक के जमाकर्ताओ को कुछ अंश जल्द ही मिलनेवाला है।

बैंक के पूर्वाध्यक्ष अनिल कुमार धडवईवाले ने बताया कि बैंक को कुछ दिन पूर्व ही 3 करोड़ 70 लाख रुपये सिक्युरिटी अमाउंट प्राप्त हुई थी। जिसमे से बैंक ने डिपोझिट इन्शुरन्स एन्ड क्रेडिट कॉर्पोरेशन मुम्बई को सारा भुगतान कर दिया। इस कोर्पोरेशन को बैंक ने कुल 27 करोड़ 96 लाख का भुगतान कर दिया है। अब शेष 1 करोड़ 56 लाख ₹ बैंक के लगभग 1260 जमाकर्ताओं में बाटने के लिये बैंक परिसमापक ( लिक्विडेटर) ने संयुक्त आयुक्त सहकारिता इंदौर से अनुमति मांगी है और संयुक्त आयुक्त ने उक्त पत्र को रजिस्ट्रार ( भोपाल) की ओर 15 जुलाई को भेज दिया है।

धडवईवाले ने बताया कि कुल 1260 जमाकर्ताओ में से लगभग आधे (600 के लगभग) से ज्यादा बिचारे जमाकर्ता स्वर्ग सिधार चुके है।
एक अन्य जानकारी के मुताबिक बैंक परिसमापक ने बैंक के सुखल्या स्थित भवन का वेल्युऐशन 1 करोड़ 80 लाख तथा बैंक के खातीपुरा स्थित मुख्यालय भवन का मूल्यांकन 3 करोड़ 60 लाख ₹ करवा रखा है। इन भवनों के बिक्री से सभी जमाकर्ताओं को उनकी पूरी जमा पूंजी मिल सकेगी। अभी लोकमान्य नगर स्थित बैंक भवन का तो मूल्यांकन हुआ ही नही है।
निकट भविष्य में ही सभी जमाकर्ताओ को कुछ तो राशी मिलेंगी ही।

Spread the love

इंदौर