इंदौर के चिड़ियाघर में खरगोश के आकार के 2 बन्दर

इंदौर। बन्दर की लाल और काले मुँह की अनेक प्रजातियां आपने देखी होगी लेकिन छोटे से खरगोश के आकार के बन्दर नही देखे होंगे। वो भी मात्र ढाई सौ ग्राम के। यदि आपको इन्हें देखना है तो इंदौर के जीपीओ के पास स्थित चिड़ियाघर (कमल नेहरू प्राणी संग्रहालय) आना होगा। यहाँ पर ब्राजिलियाई प्रजाति के दो उक्त बन्दर का जोड़ा लाया गया है, जिन्हें देखकर आपका दिल खुश हो जाएगा। इनकी अठखेलियां सभी का दिल जीत रही है। इस जीडीए की खासियत ये है कि इनका वजन सिर्फ ढाई-ढाई सौ ग्राम है।

मौसमी फलों के अलावा उबला चिकन शौक से खाते है। ये विश्व की सबसे छोटी मारमोसेट प्रजाति के बंदर हैं। एनिमल एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत इन्हें बड़ौदा के जू से लाया गया है। चिड़िया घर प्रभारी उत्तम यादव ने बताया कि एनिमल हिप्पो पोटेमस के बदले उक्त बंदरों का ये जोड़ा लाया गया है। इस जोड़े के लिए कांच के खास पिंजरा बनाया गया है। औसतन 10 साल जीने वाले इन बंदर की लंबाई पूंछ से मुंह तक केवल 30 सेंटीमीटर है। डॉ. यादव ने बताया इस प्रजाति के कुछ बंदर अंगुली के आकार के भी होते हैं। बंदरों के इन जोड़ों के अलावा 6 ओर 7 महीने के ऊदबिलाव प्रजाति के योरपियन फेरेटस भी लाए गए हैं। मादा सफेद और नर काले रंग का है।

Spread the love

इंदौर