चालान के बावजूद अफसर पर नगर निगम की मेहरबानी

 शासन ने लिखे पत्र में मांगा जवाब
इंदौर. रिश्वत मामले में कोर्ट मे चालान पेश होने के बावजूद नियमानुसार एक नगर निगम अफसर को सस्पेंड नहीं किया जा रहा। इसे लेकर शासन द्वारा पत्र लिख कर जवाब मांगा गया है।

मामला इस प्रकार है

कि नगर निगम के सब सहायक यंत्री रजनीश पंचोलिया को लोकायुक्त ने रिश्वत लेते पकड़ा गया था और जनवरी 2018 में उनके खिलाफ कोर्ट में चालान भी पेश हो गया लेकिन करि 6 माह गुजर जाने के बावजूद अब तक उन्हें सस्पैंड नहीं किया गया है।

बताते हैं शासन के नगरीय प्रशासन विभाग ने इस मामले में निगमायुक्त को पत्र लिखते हुए कार्रवाई नहीं करने को घोर आपत्तिजनक माना और जवाब मांगा है। पत्र की प्रतिलिपि लोकायुक्त एसपी दिलीप सोनी को भी भेजी है। पत्र में पंचोलिया पर कार्रवाई नहीं करने नाराजगी जताते हुए निगमायुक्त से जल्द कार्रवाई करने के लिए कहा है।

वर्ष फरवरी 2014 में बिजली ठेकेदार राजेश गावड़े की शिकायत पर रजनीश पंचोलिया को बिल भुगतान के एवज में 20 हजार रुपए रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ा था। एक इंस्पेक्टर को भी आरोपी बनाया गया था।

नियमानुसार चालान कोर्ट में पेश होने के बाद आरोपी को सस्पेंड किये जाना चाहिए लेकिन उक्त अफसर पर निगम की मेहरबानी चर्चा का विषय बनी हुई है। एसपी सोनी ने उक्त पत्र मिलने की पुष्टि की है

Spread the love

इंदौर