Aug 21 2019 /
10:25 AM

एडवाइजरी कम्पनी की धोखाधड़ी में मालिक की निशानदेही पर हो रही है उपकरणों की जब्ती, साइबर सेल की मदद भी ले रहे

इंदौर। इंदौर पुलिस द्वारा दो एडवाइजरी कम्पनी WAYS TO STAR / WAYS TO CAPITALद्वारा धोखाधड़ी के मामले में इसके मालिक निशांत चतुर्वेदी की निशानदेही पर उपकरणों की जब्ती की जा रही है। केस की विवेचना में स्टेट साइबर सेल का सहयोग भी लिया जा रहा है।

उपकरणों की फॉरेंसिक जांच में कई राज़ खुलने की उम्मीद है।

एडिशनल एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि आरोपी मालिक निशांत चतुर्वेदी 12 तारीख तक पुलिस रिमांड पर है.

जब्ती के बाद उपकरणों को फॉरेंसिक जांच हेतु भेजा जाएगा । जहां से कई राज पता चलने की उम्मीद है। विशेषकर इनकी काली कमाई के बारे में। फॉरेंसिक जांच के बाद बैंक खातों की जानकारी मिल सकेगी ।

इस की कंपनियों की बड़ी शिकायत यह है कि यह अपने कर्मचारियों की सैलरी में ठगी करती हैं। पूछताछ में यह तथ्य सामने आया है कि कर्मचारियों से सैलरी की राशि पर जो हस्ताक्षर भी जाते हैं और वास्तविक सेलरी दी जाती इसमें काफी अंतर होता है । इसके अलावा कर्मचारियों से मार्कशीट और खाली चेक भी गिरवी रखे जाते हैं ताकि कंपनी छोड़ने पर उनके खिलाफ पोस्ट डेटेड चेक कोर्ट में लगाया जा सके। यह भी पता चला है कि कई कंपनियां ऐसी हैं जो रजिस्टर्ड नहीं है ।

इनकी संख्या काफी है इसके अलावा कंपनियां अपना कारोबार कर लोगों को ठग रही हैं। इन कंपनियों पर भी आगे कार्रवाई की जाएगी। ऐसी कंपनियां जो गलत पते पर रजिस्टर्ड होने के बाद भी अपना कारोबार कर रही हैं ।

ऐसे परिसर के मालिकों और भवन स्वामियों को भी आरोपी बनाया जाएगा। एएसपी ने कहा कि भवन स्वामी चल रही कंपनियों की रजिस्ट्रेशन की तस्वीरें और इनकी सूचना पूरे कर्मचारियों सहित पुलिस को दे ताकि कंपनियां धोखाधड़ी में शामिल होती हैं या धोखाधड़ी करके भागती हैं तो पुलिस कार्रवाई के दौरान भवन मालिकों के खिलाफ कार्रवाई से बचाव हो सके।

अभी तक पांच कंपनियों पर बड़ी कार्रवाई के रूप में छापे डाले जा चुके है। इन छापों के पश्चात 60 से अधिक आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें से अधिकांश आरोपी अभी तक जेल में है। आगे भी यह कार्यवाही जारी रहेगी।

Spread the love

इंदौर