नाबालिग से दुष्कर्म में बीस साल की दोहरी सश्रम कैद

खजराना क्षेत्र की वारदात थी
इंदौर। कोर्ट ने पानी पीने के बहाने घुसकर नाबालिग युवती से दुष्कर्म के
आरोपी को दोषी पाते हुए बुधवार को बीस-बीस साल की दोहरी सश्रम कारावास और पांच हजार
रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वर्षा शर्मा की कोर्ट ने आरोपी सपनदास पिता
शंकरदास मूल निवासी कृष्णा नगर, पश्चिम बंगाल, वर्तमान निवासी श्रीकृष्ण
विहार कालोनी खजराना को रेप व पास्को एक्ट में उक्त सजा सुनाई। हालांकि दोनों सजाएं साथ साथ चलेगी।

उप संचालकलोक अभियोजन बीजी शर्मा ने बताया कि वारदात 13 मई 2016 की शाम 07:30 की है। खजराना क्षेत्र में घरों में काम करने वाली एक महिला अपनी दो बच्चियों को घर पर छोड़ काम करने गई थी। शाम को लौटी तो छोटी बच्ची बाहर वाले कमरे में थे। उसने अपनी दूसरी नाबालिग बच्ची के बारे में पूछा तो उसने बताया कि दूसरे कमरे है। जब महिला वहां पहुंची तो उसी क्षेत्र
में रहने वाला उक्त आरोपी नाबालिग के साथ दुष्कर्म कर रहा था जो उसे देखकर भाग गया। पूछने पर पीडि़त युवती ने मां को बताया कि आरोपी सपन पीने के लिए पानी मांगने के बहाने घर में आया था और धमकाकर उसके साथ दूष्कर्म किया। बाद में आरोपी को पकडक़र पुलिस ने कोर्ट में चालान पेश किया था। शासन की ओर से AGP एन ए मण्डलोई ने पैरवी की।

Spread the love

इंदौर