Mar 20 2019 /
10:45 AM

नाराज कांग्रेस विधायक दत्तीगांव बोले, मैं पूर्व मुख्यमंत्री पुत्र नहीं इसलिए मंत्री नहीं बना, जरूरत पड़ी तो दूंगा इस्तीफा, देखिये वीडियो

बदनावर। मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार आने के बाद कई विधायक मंत्री नही बनाए जाने से नाराज चल रहे हैं। ऐसे ही बदनावर के विधायक राजवर्धनसिंह दत्तीगांव ने अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को काफी खरी-खोटी सुनाई और जरूरत पड़ने पर विधायक पद से इस्तीफा देने की बात भी कर डाली।

उन्होंने कार्यकर्ताओ से कहा आपमें से किसी को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है,देना होगा तो मैं दूँगा। लोकसभा के साथ फिर उपचुनाव लड़ लेंगे। बात बदनावर के सम्मान की है।

वे बोले क्या मेरा कसूर ये था कि मैं किसी पूर्व मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री या किसी मंत्री का बेटा नहीं हूं। आखिर ये वंशवाद कब तक प्रतिभाओं और जन भावनाओं जा अपमान करेगा?
मेरे लिए मंत्री पद या विधायिका मायने नहीं रखती। मायने रखती है बदनावर के 84499 मतदाताओं की भावना, उनकी आकांक्षा।

दत्तीगांव ने कहा जनाकांक्षाओं के अपमान की शर्त पर मैं ऐसी विधायिकी को लाख बार ठुकरा सकता हूँ, लेकिन अब बदनावर की आवाज को आलाकमान तक पहुंचना मेरी जवाबदेही है।

मेरे खून में दोगलाई नहीं है। राजा बख्तावरसिंहजी और प्रेमसिंहजी का वंशज हूँ। मैं आपकी लड़ाई लड़ने के लिए कमर कस चुका हूँ। आपमें से किसी को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है। देना होगा तो मैं दूँगा। देखिए दत्ती गांव के तेवर-

एक अन्य समर्थक की धमकी

उधर शिवपुरी के पिछोर से विधायक केपी सिंह को प्रदेश सरकार में मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज एक कथित समर्थक ने सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को चेतावनी दी है। बुधवार को अरनव प्रताप सिंह चौहान नामक समर्थक ने फेसबुक पर सिंधिया को पिछोर क्षेत्र में नहीं आने देने की बात कह डाली।

Spread the love

इंदौर