एक और सर्वे के बाद पता चलेगा किस bjp विधायक का टिकिट कटेगा

भोपाल. आगामी विस चुनाव में किस भाजपा विधायक को टिकट मिलेगा, किसका कटेगा, इसे लेकर पार्टी में भारी धुकधुकी मची हुई है। इसे लेकर विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने स्पष्ट कहा दिया है कि भाजपा विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साफ कर दिया कि इस बारे में आगामी जुलाई में आ रहे एक सर्वे के बाद तय हो जाएगा ओर इसके बाद वे बाद इस विषय पर बात करेंगे। इस महत्वपूर्ण बैठक में बताते है एक दर्जन मंत्रियों सहित 19 विधायक नही आ पाए। बैठक में राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल मौजूद थे। पता चला है कि रामलाल ने इस दौरान विधायकों और मंत्रियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई। उन्होंने जिलों के प्रभारी मंत्रियों को कहा कि कुछ जिलों से अच्छी रिपोर्ट नहीं आ रही। मंत्रियों के पास दो-तीन महीने का समय है। वे प्रभार के जिलों में जाकर अपने कामकाज निपटाएं। कार्यकर्ताओं और विधायकों से बात करें। इसके बाद अपने क्षेत्र में जाएं। मुख्यमंत्री सचिवालय प्रभारी मंत्रियों के कामकाज की मॉनिटरिंग करे। कार्यकर्ता निष्क्रिय होगा तो किसका सम्मान बचेगा। हमें कांग्रेस मुक्त बूथ की बात करनी है। विकास बहुत हुआ है और जनता भी साथ है, लेकिन कार्यकर्ता का माइक्रो मैनेजमेंट नहीं होगा तो स्थिति ठीक नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि जन आशीर्वाद यात्रा मे हर विस क्षेत्र से प्रबुद्ध नागरिक का यात्रा में आना जरूरी है। यह पार्टी निश्चित करे। हमने आर्थिक शुचिता के लिए कार्यकर्ता और जनता के पैसे से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। इसलिए सभी लोग ध्यान रखें। अफसरों की शिकायतों को लेकर उन्होंने कहा कि कई लोगों को शिकायत है, लेकिन भाजपा धमक से नहीं व्यवहार से काम करती है। अाप विनम्र रहेंगे तो आचार संहिता के बाद भी अफसर आपके प्रति विनम्र रहेंगे। आने वाले दिनों में केंद्र सरकार किसानों की आय दो गुना करने और आयुष्मान भारत योजना के बारे में बड़ा निर्णय करने जा रही है। विधायकों को लेकर रामलाल ने कहा कि कई लोगों के बारे में जानकारी मिली है और आगे भी मिलेगी। ऐसे विधायक व नेता एक-दूसरे हराने के बारे में सोचेंगे तो भाजपा की सरकार कैसे बनेगी। इसलिए ध्यान रखें। प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि अनर्गल बयानबाजी या अन्य किसी भी तरह के घटनाक्रम या छोटी-मोटी चूक से पार्टी को असहज न होना पड़े, ऐसा विचार ध्यान में रखें। अन्यथा पार्टी गंभीरता से उन पर विचार करेगी।

Spread the love

इंदौर