Mar 21 2019 /
7:18 AM

मप्र में विवाद बढ़ा, भाजपा के 109 विधायक 7 जनवरी को भोपाल में करेंगे वंदे मातरम गान

भोपाल। मप्र के मंत्रालय में सरकारी काम काज शुरू होने से पहले वंदेमातरम् गायन को लेकर विवाद बढ़ गया है और कांग्रेस सरकार इसमे घिरती नजर आ रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बुधवार को ट्वीट पर कहा कि “मैं और भाजपा के समस्त विधायक विधानसभा सत्र के पहले दिन 7 जनवरी 2019 को सुबह 10 बजे वल्लभ भवन के प्रांगण में वंदे मातरम् का गान करेंगे।” इस मुहिम से जुड़ने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री ने सभी सदस्यों का स्वागत किया है।

साल 2019 के पहले ही दिन मध्यप्रदेश में नया विवाद शुरू हो गया है। प्रत्येक माह के प्रथम कार्यदिवस में मंत्रालय में वंदेमातरम् गायन के बाद सरकारी-काज की शुरूआत होती है, लेकिन इस बार एेसा नहीं हुआ। इसको लेकर राजनीति गरमाई है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सफाई दी कि हर माह की एक तारीख को मंत्रालय में गायन की अनिवार्यता फिलहाल बंद की है। यह निर्णय न तो किसी एजेंडे के तहत लिया है और न ही हमारा गान को लेकर विरोध है। जल्द ही इसे नए स्वरूप में शुरू करेंगे।

इधर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा है कि अगर कांग्रेस को राष्ट्रगीत के शब्द नहीं आते हैं या फिर इसके गायन में शर्म आती है, तो मुझे बता दें। हर महीने की पहली तारीख को वल्लभ भवन के प्रांगण में जनता के साथ वंदेमातरम् मैं गाऊंगा।

भाजपाइयों ने गाया वंदे मातरम

इस बीच बुधवार को मंत्रालय के सामने वाले पार्क में हर महीने की पहली तारीख को होने वाले वंदेमातरम् गायन पर रोक के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने वल्लभ भवन के सामने उसी जगह वंदे मातरम् गाया, जहां हर महीने होता था। इसके बाद जमकर नारेबाजी की।

Spread the love

इंदौर