Mar 24 2019 /
2:25 PM

राफेल पर एक एक प्रश्नों का जवाब देकर रक्षा मंत्री बोली, राफेल पीएम मोदी को दोबारा सत्ता में लाएगा,

  • राहुल गांधी फिराक मारकर आए चर्चा में

दिल्ली। राफेल विमान सौदे को लेकर शुक्रवार को लोकसभा में जमकर बहस चली। पहली बार रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस मसले पर कांग्रेस को उसके एक एक प्रश्न का जोरदार जवाब दिया। उन्होंने कहा कि बोफोर्स एक घोटाला था जिसके कारण कांग्रेस की सत्ता चली गई जबकि राफेल मामला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सत्ता में दोबारा लाएगा।

राफेल मुद्दे पर लोकसभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुए सीतारमण ने राफेल विमानों की कीमत, एचएएल को आफसेट में शामिल नहीं किए जाने, कंपनी विशेष को फायदा पहुंचाने एवं प्रक्रियाओं का पालन नहीं करने सहित विपक्षी दलों के सभी आरोपों का‘बिन्दुवार’ जवाब दिया और दावा किया कि कांग्रेस के सरकार के दौरान रक्षा एवं राष्ट्रहित की अनदेखी गई।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्पष्टीकरण मांगते हुए कहा, ‘‘मेरा सीधा आरोप प्रधानमंत्री मोदी पर है और मैं स्पष्ट कहता हूं कि वह इस मामले में शामिल हैं।’‘

कांग्रेस एवं राहुल गांधी के आरोपों को असत्य एवं गुमराह करने वाला करार देते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि साढ़े चार साल तक बिना भ्रष्टाचार के आरोपों के चली सरकार पर किसी न किसी तरह भ्रष्टाचार के आरोप लगाने की हताशा के तहत यह सब किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस सरकार में रक्षा मंत्रालय बिना दलालों के चल रहा है।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी फ्रांस के राष्ट्रपति का हवाला बिना सबूत के दे रहे हैं और वे प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हैं। वे फ्रांस से निजी बातचीत के सबूत दिखाएं।

सीतारमण ने कहा कि सरकार में रहते हुए कांग्रेस की मंशा 10 वर्षों में राफेल विमान खरीदने एवं राष्ट्रीय सुरक्षा की नहीं थी जबकि वर्तमान सरकार ने बेहतर शर्तों के आधार पर संप्रग के समय के उड़ान भरने की स्थिति वाले 18 विमानों की तुलना में 36 विमान खरीदने का सौदा 9 प्रतिशत कम कीमत पर किया।

यह बोले राहुल

रक्षा मंत्री के बयान पर स्पष्टीकरण मांगते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि ‘मैं रक्षा मंत्री सीतारमण या पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर पर आरोप नहीं लगा रहा हूं। मेरा सीधा आरोप प्रधानमंत्री मोदी पर है और मैं स्पष्ट कहता हूं कि वह इस मामले में शामिल हैं।’

उन्होंने पूछा कि रक्षा मंत्री इस सवाल का जवाब दें कि एचएएल के बजाय अनिल अंबानी को सौदा दिलाने का निर्णय किसने लिया? संप्रग के समय जिन एल-1 श्रेणी के विमानों का दाम 560 करोड़ रुपए था,

वह आपके समय 1600 करोड़ रुपए कैसे हो गया? उन्होंने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों से अपनी निजी बातचीत और पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांद के बयान का जिक्र किया.

राहुल ने कहा कि ओलांद ने अपने बयान में कहा था कि ऑफसेट साझेदार के लिए अनिल अंबानी का नाम भारत के प्रधानमंत्री और भारत सरकार की ओर से दिया गया और ‘‘मैंने प्रधानमंत्री से सिर्फ यह अनुरोध किया था कि अगर ओलांद गलत कह रहे हैं तो वह उन्हें फोन कर ऐसे बयान नहीं देने को कहें।

फिर मारी आंख

लोकसभा में शुक्रवार को राफेल मामले पर जारी बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर से आंख मारी। राहुल गांधी की इस हरकत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

राफेल मामले पर सदन में एआईएडीएमके सांसद एम थंबी दुरई अपना पक्ष रख रहे थे। इसी दौरान उनके पीछे बैठे राहुल गांधी ने किसी की ओर इशारा करके आंख मारी थी।

बता दें कि राहुल इससे पहले भी संसद के मॉनसून सत्र में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी से गले मिलने के बाद आंख मारने के कारण चर्चा में आ गए थे।

Spread the love

इंदौर