मोदी सरकार के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पर रणनीति तैयार शुक्रवार को होगी बहस

नईदिल्‍ली। संसद में मानसून सत्र के पहले दिन मोदी सरकार के खिलाफ टीडीपी की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा अध्‍यक्ष द्वारा स्‍वीकार किए जाने के बाद 20 जुलाई शुक्रवार को बहस होगी।

इसे लेकर पक्ष और विपक्ष ने अपनी रणनीति तैयार कर ली है। इस प्रस्ताव पर होने वाली चर्चा में प्रधानमंत्री भी सदन में अपना पक्ष रखेंगे। इसके साथ इस प्रस्‍ताव पर वोटिंग भी होगी।

इस अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्ष एकजुट है। कांग्रेस सहित ज्यादातर विपक्षी दलों का समर्थन इसे हासिल है। इसके बावजूद सरकार को कोई खतरा नही है। यदि सदन में भाजपा और उसके सहयोगी दलों की संख्‍या की गिनती की जाए तो मोदी सरकार के पास इस संकट से उबरने के लिए पर्याप्‍त संख्‍या है।

545 सदस्यों वाली लोकसभा में मौजूदा समय में 535 सांसद हैं। ऐसे भाजपा को बहुमत हासिल करने के लिए महज 268 सांसद चाहिए होंगे। भाजपा के अभी 273 सदस्य हैं, इसके अलावा भाजपा के सहयोगी दलों शिवसेना के 18, एलजेपी के 6, अकाली दल के 4 और अन्य के 9 सदस्य हैं।

इस तरह से सदन में कुल संख्या 310 पहुंच रही है। ऐसे में यह उम्‍मीद की जा रही है कि भाजपा को अविश्वास प्रस्ताव को गिराने और सरकार को बचाने में कोई दिक्कत नहीं होने वाली।

Spread the love

72

इंदौर