Jun 25 2019 /
3:18 AM

क्या नरेंद्र मोदी के लिए रोक कर रखी गई है इंदौर की सीट?

नईदिल्ली। इस बार के लोकसभा चुनाव में इंदौर का नाम इस मायने में सर्वाधिक चर्चा का विषय बना हुआ है कि यहां से भाजपा और कांग्रेस दोनों से प्रत्याशी कौन होगा।

सबसे अधिक उत्सुकता भाजपा प्रत्याशी के नाम को लेकर है क्योंकि विगत 8 लोकसभा चुनाव से यहां भाजपा लगातार चुनाव जीतती आई है और इस बार 8 मर्तबा की सांसद सुमित्रा महाजन का टिकट उनकी अधिक उम्र के चलते नहीं दिए जाने की बात कही जा रही है।

खुद सुमित्रा महाजन भी चुनाव लड़ने से इंकार कर चुकी है लेकिन अभी भी यह सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है कि सुमित्रा महाजन नहीं तो फिर इंदौर से भाजपा का प्रत्याशी कौन होग? इसके लिए तमाम स्थानीय नाम भी चल रहे है।

मध्य प्रदेश के अधिकांश नाम भाजपा घोषित कर चुकी है, लेकिन इंदौर, भोपाल व विदिशा से नाम अटके हुए हैं, ऐसे में तरह तरह के कयासों के दौर जारी है। इंदौर को मध्यप्रदेश में भाजपा की सबसे सुरक्षित सीट माना जाता है।

पिछले लोकसभा चुनाव में ही यहां से भाजपा की लीड 4 लाख साठ हजार वोट से अधिक की है, ऐसे में इन संभावनाओं को बल मिल रहा है कि क्या कोई भाजपा का दिग्गज नेता इस सीट से चुनाव लड़ेगा जिसके लिए यहां के प्रत्याशी के नाम की घोषणा रोकी गई है?

इसी कड़ी में यह चर्चा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के वाराणसी के अलावा मध्यप्रदेश की एक और सीट से भी चुनाव लड़ सकते हैं। इस संबंध में अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने खबर दी है कि मोदी इंदौर या विदिशा से चुनाव मैदान में उतरने का मन बना रहे हैं। सुमित्रा महाजन फिलहाल दिल्ली प्रवास पर है।

सम्भव है इस मामले में वहा चर्चा हो। इधर कांग्रेस भी इंदौर को छोड़कर अपने सारे प्रत्याशी मध्य प्रदेश के घोषित कर चुकी है। माना जा रहा है कि कांग्रेस भाजपा को देख कर अपना प्रत्याशी घोषित करेगी।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि भाजपा का प्रत्याशी स्थानीय हुआ तो उनका भी स्थानीय होगा। यदि भाजपा कोई बड़ा नाम लाती है तो फिर कांग्रेस भी उस हिसाब से प्रत्याशी उतारेगी। एक दो दिन में परिदृश्य स्पष्ट होने की संभावना है।

Spread the love

इंदौर