अब आतंकियों के खात्मे के बड़ा अभियान चलेगा

श्रीनगर। बीजेपी और पीडीपी का गठबंधन टूटने के बाद लगे राज्यपाल शासन में अब आतंकियों की खेर नही रहेगी। जम्मू-कश्मीर में बड़े ऑपरेशन की तैयारी कर ली गयी है जिसमे आतंकियों और घुसपैठियों का पूरी तरह से खात्मा किया जाएगा। इडके लिए चौतरफा मोर्चा खोलने की तैयारी कर ली गई है। ऑपरेशन ऑल आउट अभियान को सख्ती से आगे बढ़ाने के बीच अब सरकार ने नेशनल सिक्युरिटी गार्ड (एनएसजी) को राज्य में आतंकवाद निरोधक ग्रिड में शामिल करने का फैसला किया है।

आतंकवाद निरोधक ग्रिड में एनएसजी को शामिल करने का प्रस्ताव अरसे से लंबित था। जम्मू-कश्मीर में गठबंधन सरकार के कारण केंद्र सरकार इस पर अंतिम फैसला नहीं कर पा रही थी। मगर अब पीडीपी-भाजपा के मध्य हुए विवाद के बाद सूबे में लगे राज्यपाल शासन के कारण केंद्र सरकार सियासी मजबूरियों के दबाव से बाहर आ गई है। गृह मंत्रालय ने एनएससी को न सिर्फ आतंकवाद निरोधक ग्रिड में शामिल करने की मंजूरी दी है, बल्कि जरूरत पडने पर आतंकी मुठभेड़ के दौरान मौके पर मोर्चा संभालने देने का भी फैसला किया है।

कहा जा रहा है कि ऑपरेशन ऑल आउट के कारण 600 आतंकियों के सफाए के बाद घाटी में महज 200 आतंकी बचे हैं। केंद्र सरकार की योजना अब इन बचे आतंकियों को भी जल्द से जल्द ठिकाने लगाने की है।

Spread the love

इंदौर