Jun 21 2019 /
4:44 AM

राफेल पर राहुल की मोदी को चुनौती, 20 मिनट कर ले बहस, 3 सवालों के मांगे जवाब

नईदिल्ली। राफेल विमान डील को लेकर बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आक्रमण तेज कर दिया है। ट्विटर पर उनसे तीन सवाल पूछे हैं। ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा है, राफेल डील पर संसद में पीएम मोदी का एग्जाम कल है। सवाल देख लें।

गौरतलब है कि राफेल डील को लेकर आज राहुल गांधी ने सबसे पहले लोकसभा में मोदी सरकार पर निशाना साधा था. बाद में उन्होंने इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की। इसके बाद राहुल ने ट्वीट किया, इसमे लिखा है-

‘’कल संसद में राफेल डील पर पीएम मोदी का ओपन बुक एग्जाम है. एडवांस में एग्जाम में आने वाले सवाल यहां हैं.’’

पहला सवाल- एयरफोर्स को 126 एयरक्राफ्ट की जरूरत थी, इसके बजाय 36 एयरक्राफ्ट ही क्यों खरीदे?

दूसरा सवाल- 560 करोड़ की जगह एक एयरक्राफ्ट खरीदने के लिए 1600 करोड़ रुपये क्यों खर्च किए गए?

तीसरा सवाल- HAL के बजाय AA (अनिल अंबानी) को क्यों चुना गया?

प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी चुनौती

इसके पहले राहुल गांधी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी को बहस करने की चुनौती दी। उन्होंने कहा कि मैं पीएम मोदी से इस मामले में सिर्फ 20 मिनट बहस करना चाहता हूं।

उन्होंने फिर दोहराया कि चौकीदार ही चोर है। इस दौरान राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेस में जेटली की क्लिप भी चलवाई। इससे पहले राहुल गांधी ने लोकसभा में भी इस मुद्दे पर भाषण दिया था और मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा था।

राहुल गांधी ने कहा, ”केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार इस मामले की जांच जेपीसी से नहीं करा रही है? इसकी क्या वजह है? उन्होंने पूछा है कि पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बैडरूम में कौनसी फाइलें रखी हैं?

उनके पास पीएम मोदी का कौनसा राज है? राहुल ने कहा है कि सरकार जितनी सच्चाई को छुपाने की कोशिश करती है उतनी सच्चाई बाहर आ जाती है. राहुल गांधी ने कहा, ”जेटली ने राफेल की कीमत 1600 करोड़ रुपए बताई है.”

उन्होंने आगे कहा, ”मोदी सरकार ने अनिल अंबानी को 30 हजार करोड़ रुपए का फायदा पहुंचाया है.”

हमारा सवाल है कि क्या अनिल अंबानी के लिए मोदी सरकार ने डील बदली थी?” राहुल गांधी ने कहा, ”हम पूछते हैं कि इस डील को लेकर रक्षा मंत्रालय ने आपत्ति जताई थी या नहीं.”
राहुल गांधी ने कहा है कि मोदी जी ने देश के साढ़ें तीन लाख करोड़ रुपये लूटे हैं. उन्होंने कर्ज में डूबे अपने मित्र अनिल अंबानी को बचाया है.राफेल डील को लेकर रक्षा मंत्रालय ने आपत्ति जताई थी या नहीं?

शिवसेना बोली JPC बनें

इधर बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने राफेल मामले की जांच के लिए बुधवार को लोकसभा में संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित करने की मांग की.

शिवसेना ने कहा कि यह पारदर्शी सरकार है इसलिए जेपीसी की जांच से डरना नहीं चाहिए. सदन में राफेल विमान सौदा मुद्दे पर चर्चा के दौरान शिवसेना के अरविंद सावंत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाए और वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इसका खंडन किया, लेकिन अब भी संदेह बने हुए हैं।

Spread the love

इंदौर