क्या अब महबूबा कांग्रेस के साथ सरकार बनाएगी

दिल्ली । क्या अब जम्मू-कश्मीर में पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाएगी? ये सवाल सोमवार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के यहाँ हुई एक बैठक के बाद उठ खड़ा हुआ है।

भाजपा-पीडीपी गठबंधन टूटने के बाद अब इन अटकलों के बीच जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री व पीडीपी की मुखिया महबूबा मुफ्ती की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मिलने का प्रयास कर रही है।

इधर आज पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के घर कांग्रेस के पॉलिसी एंड प्लानिंग ग्रुप (पीपीजी) की बैठक हुई।

इस बैठक में डॉ कर्ण सिंह, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम, राज्यसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता गुलाम नबी आजाद और अंबिका सोनी शामिल हुए।

सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में जम्मू-कश्मीर पर भी चर्चा हुई। मंगलवार को भी कांग्रेस ने श्रीनगर में एक बैठक बुलाई है वर्तमान स्थिति देखें तो 89 सदस्यों वाली जम्मू-कश्मीर विधानसभा में सरकार बनाने के लिए 44 विधायकों की आवश्यकता है।

जम्मू-कश्मीर विधानसभा में कांग्रेस के पास 12 विधायक हैं, जबकि पीडीपी के पास है 28 विधायक। अगर कांग्रेस और पीडीपी साथ आ भी जाते हैं तो दोनों का कुल जोड़ 40 बनता है और ऐसे में उन्हें 4 और विधायकों की आवश्यकता होगी। तीन निर्दलीय विधायकों के अलावा एक विधायक सीपीआई-एम और एक विधायक जेकेपीडीएफ का है। वहीं महबूबा के सामने इस बात की समस्या खड़ी है कि कहीं भाजपा उसके विधायक तोड़ न दे। दूसरी तरफ कांग्रेस अगर महबूबा के साथ जाती है तो उसे पीडीपी की विरोधी नेशनल कांफ्रेस (एनसी) से अपना रिश्ता खत्म करना होगा या फिर उसे विश्वास में लेना होगा और यह दोनों ही काम कांग्रेस के लिए किसी चुनौती से कम नहीं हैं।

Spread the love

इंदौर