Mar 20 2019 /
10:57 AM

पुलिसकर्मियों को गृह जिले में पदस्थ करो, होंगे ये फायदे…

हाल ही में मप्र में सत्ता में आई कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने पुलिसकर्मियों को कई सुविधाऐं देने के मामले में उन्हें अवकाश दिए जाने सहित कई बदलाव करने के संकेत दिए हैं। इसी बीच कुछ पुलिसकर्मियों ने उनका ध्यान पुलिसकर्मियों की एक मुख्य समस्या की ओर दिलाया है।

इसमें कहा गया है कि मध्यप्रदेश में एक नियम के अनुसार पुलिसकर्मियों को उनके गृह जिले अर्थात मूल रूप से जिस जिले के वो रहने वाले हैं, वहां पदस्थ नहीं किया जाता है। कुछ पुलिसकर्मियों ने नाम ना छापने की शर्त पर मप्र सरकार को यह सुझाव दिया है कि यदि यह नियम हटा कर मध्यप्रदेश में पुलिसकर्मियों को गृह जिलों में पदस्थ करना शुरू कर दिया जाए तो उनकी कई समस्याओं का ना केवल निराकरण हो जाएगा बल्कि पुलिस अधिक सक्रियता व चुस्ती से काम करेगी।

इन्होंने कहा कि पुलिस आरक्षक कोई अनुसंधान अधिकारी नहीं है, वह तो पुलिस विभाग की नींव है एवं सबसे निचले स्तर का कर्मचारी है जो बिना किसी मूलभूत सुविधा के 12-16 घंटे प्रतिदिन ड्यूटी करता है।

पढ़िए इन पुलिसकर्मियों द्वारा क्या सुझाव दिए गए है-

1. पुलिसकर्मी को ज्यादा अवकाश लेने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ।

2. ड्यूटी के बाद बचे हुए समय में अपने परिवार को समय दे पाएगा।

3. शासन द्वारा बनाए जा रहे रहे शासकीय आवास का खर्च बचेगा।

4. पुलिस कर्मी द्वारा मानसिक तनाव एवं आत्महत्या नहीं होगी ।

5. अपराध पर अंकुश लगेगा ।

6. जिले में बदनामी के डर से ईमानदारी से नौकरी करेगा ।

7. बच्चौं की पढ़ाई एवं माता पिता की देखरेख कर पाएगा ।

8. त्यौहार के समय छुट्टी नहीं मिलने के कारण कुछ समय के लिए घर पर हाजरी लगवाकर वापस ड्यूटी पर आ जाएगा ।

9. रहने खाने पीने का खर्च कम होगा।

10. मानसिक एवं पारिवारीक तनाव कम होने के कारण स्वस्थ रहेगा और औसत आयु में वृद्धि होगी ।

अतः परिवार से हमें दूर ना करे पास लाने हेतु गृह जिले में पदस्थ करने की कृपा करें।

जैसा कुछ पुलिसकर्मियों ने दिए गए सुझावों में बताया
Spread the love

इंदौर