May 26 2019 /
8:59 AM

इंदौर में जॉब दिलवाने के नाम पर बेरोजगार युवकोे से लाखो रूपये की ठगी करने वाले दो आरोपी क्राईम ब्रांच ने पकड़े

जॉब की तलाश में घुमते युवाओ को एफ.सी.आई.(फूड कार्पोरेशन आँफ इंडिया) का फर्जी जाइंनिग लेटर दिखाकर करते थे ठगी।

इंदौर। इंदौर में जॉब दिलवाने के नाम पर बेरोजगार युवकोे से लाखो रूपये की ठगी करने वाले दो आरोपियों को क्राईम ब्रांच ने पकड़ा है। ये आरोपी ठगी करने वाले गिरोह को अपना बैंक खाता नंबर उपलब्ध करवाते थे। जॉब की तलाश में घुमते युवाओ को एफ.सी.आई.(फूड कार्पोरेशन आँफ इंडिया) का फर्जी जाइंनिग लेटर दिखाकर ठगी करते थे।

आरोपियों के नाम मनोज कुमार पिता दामोदर बनवाडीकर जाति ब्रह्मण, उम्र 43 साल नि.- म.न. बी-359 पाश्वनाथ सिटी ,देवास रोड उज्जैन एवं सुमित खरे पिता रमेशचन्द्र खरे जाति कायस्थ ,उम्र 46 साल नि. राज्वल सिटी ए-6/102 अमखेरा रोड आधार तल जबलपुर है। एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र, पुलिस अधीक्षक मुख्यालय अवधेष कुमार गोस्वामी के निर्देशन मे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक क्राईम ब्रांच अमरेन्द्र सिंह व इनकी टीम ने पकड़ा।

इस मामले मे एक शिकायत राहुल सिहं द्वारा की गई थी।
आरोपी मनोज एवं सुमित ने पूछताछ में जानकारी दी कि वह बनारस में मिले थे। दोनों ने एक दूसरे को बताया था कि वह प्राईवेट जाँब कंसलटेन्सी का काम करते है, तब से दोनों एक दूसरे के संपर्क में है। सुमित के पास जब भी जॉब संबंधित कोई वेकेन्सी होती थी तो वह मनोज को भेजता था।

ठगी करने वाला ये गिरोह मध्यप्रदेश के कई शहरो इंदौर, उज्जैन एवं जबलपुर मे के बेरोजगार छात्रों को अपना शिकार बनाते हैं। क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम द्वारा इस प्रकार नौकरी दिलवाने के नाम पर ठगी कर रहे गिरोहों तथा उनके पूरे नेटवर्क की लगातार पतारसी की जा रही है। टीम को निकट भविष्य में बढ़ी सफलता मिलने के आसार है।

Spread the love

इंदौर