Sep 19 2019 /
4:30 PM

इंदौर में इंटरनेशनल कॉल सेंटर के नाम पर सायबर सेल ने धोखाधड़ी का मामला पकड़ा, 80 लड़के लड़कियां हिरासत में

इंदाैर। पुलिस के राज्य सायबर सेल इंदौर की टीम ने इंदौर में मंगलवार को एक इंटरनेशनल कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया। प्रारं‍भिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा व राज्‍य साइबर सेल इंदौर के एसपी जितेन्द्र सिंह की अगुवाई में धोखाधड़ी के मामले में विजयनगर क्षेत्र में सी-21 मॉल के पीछे यह कार्रवाई की गई है।

सूत्रों ने बताया कि इस मामले में करीब 80 लड़के-लड़कियों को पकड़ा किया गया है।

इनकी संख्‍या इतनी अधिक थी कि इन्‍हें ले जाने के लिए चार्टेड बस की सेवाएं ले गई। विस्तृत विवरण की प्रतीक्षा है।

ये है मामला

मुखबीर से सूचना मिली थी कि महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली से कुछ लोग इंदौर आकर अवैध कॉल सेंटर चला रहे है। इस कॉल सेंटर के माध्यम से अमेरिका के नागरिकों को काॅल कर उनसे उनके सोशल सिक्यूरिटी नंबर का उपयोग अवैध गतिविधियों जैसे मनीलाड्रिंग व ड्रग ट्रेफिकिंग में शामिल होने का बताया जाता था।

इसके बाद अमेरिकी नागरिकों को डराकर उनसे 50 डॉलर से लेकर 5000 डॉलर तक की राशि विभिन्न माध्यमों से वसूली जा रही थी। कॉल सेंटर का संचालन करने वाले आरोपी जावेद, साहिल अब्बासी, केवल संधू को धर दबोचा।

कॉल सेंटर पर 10 लाख से अधिक अमेरिकी नागरिकों का डेटा भी पाया गया जिसे पुलिस ने जब्त किया है। इसके अलावा 60 कंप्यूटर, 70 मोबाइल फोन, सर्वर, मैजिकर्जेक जैसे गैजेट्स भी कब्जे में लिए गए है।

ठगी के कॉल सेंटर में काम करने वाले युवक-युवतियां में से अधिकांश नागालैंड, मेघालय, मुंबई, अहमदाबाद और पंजाब के रहने वाले है। उक्त युवक-युवतियों के माध्यम से प्रतिदिन 3000 से 5000 डॉलर की ठगी की जा रही थी। गौरतलब है कि गत वर्ष अगस्त मे भी ऐसा ही मामला इंदौर में पकड़ाया था।

तीन 14 तक रिमांड पर

पकड़े गए आरोपियों को jmfc भावना गुप्ता की कोर्ट में पेश किया गया। जिला लोक अभियोजन अधिकारी मो अकरम शेख ने बताया कि तीन आरोपियों शाहरुख, भाविन व जावेद को 14 जून तक पुलिस रिमांड पर सौपा गया जबकि शेष 75 आरोपियों को 24 जून तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। शासन की ओर से सहायक लोक अभियोजन अधिकारी चेतन नागर व अभिषेक जैन द्वारा तर्क रखे गए।

Spread the love

इंदौर